UPSC DAILY CURRENT 20-07-2018

[1]

हाल ही में चर्चा में रही कनुपुर सिंचाई परियोजना के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. यह छत्तीसगढ़ तथा झारखंड की संयुक्त परियोजना है।
  2. इस परियोजना की परिकल्पना वैतरणी नदी के एकीकृत विकास कार्यक्रम के तहत की गई है।
  3. यह संयुक्तराष्ट्र संघ द्वारा पोषित परियोजना है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) केवल 1 और 3
D) 1, 2 और 3

Hide Answer –

उत्तर: (B)

[2]

न्यूनतम समर्थन मूल्य के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों  में से कौन-सा सही नहीं है :

A) वित्त मंत्रालय ने न्यूनतम समर्थन मूल्य की गणना करते समय किसानों द्वारा भुगतान की जाने वाली वास्तविक इनपुट लागत के अनुमान और कृषि कार्य में लगे अवैतनिक पारिवारिक श्रम के लागू मूल्य को शामिल करने का निर्णय लिया है।
B) यह कृषि मूल्य में किसी भी तीव्र गिरावट के खिलाफ कृषि उत्पादकों को सुरक्षा प्रदान करने हेतु भारत सरकार द्वारा किया जाने वाला बाज़ार हस्तक्षेप का एक रूप है।
C) कृषि लागत और मूल्य आयोग (सीएसीपी) की सिफारिशों के आधार पर सभी फसलों के लिये बुवाई के मौसम की शुरुआत में भारत सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्यों की घोषणा की जाती है।
D) इसका मुख्य उद्देश्य किसानों को बिक्री की चिंता से राहत प्रदान करना और सार्वजनिक वितरण के लिये अनाजों की खरीद करना है।

Hide Answer –

उत्तर: (C)

[3]

न्यूनतम समर्थन मूल्य के निर्धारण के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. मांग और आपूर्ति
  2. घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों बाज़ारों में मूल्य प्रवृत्तियाँ
  3. अंतर-फसल मूल्य समता
  4. कृषि और गैर-कृषि के बीच व्यापार की शर्तें
  5. उस उत्पाद के उपभोक्ताओं पर एमएसपी का संभावित प्रभाव।

विभिन्न वस्तुओं की मूल्य नीति की सिफारिश करते समय कृषि लागत और मूल्य आयोग द्वारा उपर्युक्त में से किन कारकों को आधार बनाया जाता है :

A) केवल 1, 2 और 3
B) केवल 2, 3, 4 और 5
C) केवल 1, 4 और 5
D) केवल 1, 2, 3 और 5

Hide Answer –

उत्तर: (D)

[4]

हाल ही में इसरो द्वारा विकसित विकास इंजन के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. विकास इंजन एक लिक्विड प्रोपेल्ड इंजन है, जिसका विकास इसरो ने किया है।
  2. इसका उपयोग PSLV के प्रथम चरण, GSLV Mk-III के द्वितीय चरण में तथा GSLV के तृतीय चरण किया जाता है।
  3. इसमें इंजन में ईधन के रूप में नाइट्रोजन टेट्रोआक्साइड व ऑक्सीकारक के रूप में डायमिथाइल हाइड्रोजन का प्रयोग होता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 1 और 3
C) केवल 2 और 3
D) 1, 2 और 3

Hide Answer –

उत्तर: (C)

[5]

हाल ही में चर्चा में रहे मृत क्षेत्र (dead zone) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. ये समुद्र में स्थित ऐसे क्षेत्र हैं जहाँ ऑक्सीजन की अधिकता के कारण मछलियों के जीवित रहने की संभावना कम हो जाती है
  2. वैज्ञानिकों ने एक ऐसा ही क्षेत्र अरब सागर में स्थित होने की संभावना जताई है, जो दुनिया का सबसे गहन क्षेत्र है।
  3. मृत क्षेत्र के निर्माण का कारण ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव का विस्तार है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 1 और 3
C) केवल 2 और 3
D) 1, 2 और 3

Hide Answer –

उत्तर: (C)

 

पंगोलिन (pangolin)

Pangolin

ओडिशा पुलिस की एक विशेष इकाई ने कहा है कि जल्द ही दुनिया के सबसे अवैध व्यापारिक स्तनधारियों में से एक, पंगोलिन की अंतर्राष्ट्रीय तस्करी को रोकने के लिये इंटरपोल से संपर्क किया जाएगा।

प्रमुख बिंदु 

  • दुनिया भर में पाई जाने वाली पंगोलिन की आठ प्रजातियों में से (एशिया और अफ्रीका में 4) भारत में दो भारतीय पंगोलिन (manis crassicaudata) तथा दो चीनी पंगोलिन (manis pentadactyla) की प्रजातियाँ पाई जाती हैं।
  • भारतीय पंगोलिन देश में हिमालय के दक्षिण में पाया जाता है, जबकि चीनी पंगोलिन उत्तर-पूर्वी क्षेत्र को छोड़कर असम और पूर्वी हिमालय के क्षेत्र में पाया जाता है।
  • औषधीय उद्देश्यों के लिये भारी मांग के कारण  पंगोलिन की सड़क और रेल के माध्यम से तस्करी की जाती है और इन्हें चीन भेज दिया जाता है।

वर्तमान स्थिति

  • चीनी पंगोलिन को आईयूसीएन की लाल सूची में “गंभीर रूप से लुप्तप्राय” की श्रेणी में सूचीबद्ध किया गया है, जबकि भारतीय पंगोलिन को “लुप्तप्राय” की श्रेणी में रखा गया है।
  • भारत में  इन प्रजातियों को वन्यजीव संरक्षण अधिनियम,1972 की अनुसूची 1 में शामिल किया गया है, इसलिये इनका शिकार, व्यापार या शरीर के किसी भी अंग या उसके किसी भाग का किसी भी रूप में उपयोग पर  प्रतिबंध लगाया गया है।
  • सभी पंगोलिन प्रजातियाँ कंजरवेशन ऑन इंटरनेशनल ट्रेड इन इंडेंजर्ड स्पीशीज़ (CITES) की परिशिष्ट 1 में सूचीबद्ध हैं।
सयनोथीस (cyanothece)

Cyanothece

  • यह एक बैक्टीरिया है जो नाइट्रोजन का स्थिरीकरण करने में सक्षम है क्योंकि इसमें एक सर्कडियन रिदम (Circadian Rtythm) होता है।
  • श्वसन के माध्यम से प्रकाश संश्लेषण के दौरान अधिकांश ऑक्सीजन को हटाने के बाद सायनोथीस दिन में प्रकाश संश्लेषण की क्रिया के दौरान सूर्य के प्रकाश को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करने के लिये ईंधन के रूप में उपयोग करते हैं  और रात में नाइट्रोजन का स्थिरीकरण करते हैं|
  • सायनोथीस से जीन अलग कर उसे एक अन्य प्रकार के साइनोबैक्टेरिया, सिनेकोसाइटिस (Synechocystis) में डालकर  वैज्ञानिक इसे वायु से नाइट्रोजन के स्थिरीकरण में भी संयोजित कर सकते हैं।
  • यह प्रकाश संश्लेषण के लिये क्लोरोफिल बनाने में वायुमंडलीय नाइट्रोजन का उपयोग करके उर्वरक विकसित करने में इंजीनियरिंग संयंत्रों में मदद कर सकता है।
  • ऐसा करने से मानव निर्मित उर्वरक के उपयोग को खत्म किया जा सकता है, जिसमें उच्च पर्यावरणीय लागत आती है।
डॉल्फिन की आबादी में गिरावट

Dolphin

  • विक्रमशिला गेंगेटिक डॉल्फिन अभयारण्य (VGDS) में डॉल्फिन की आबादी में गिरावट आई है, यह भारत के राष्ट्रीय जलीय जीवों के लिये भारत का एकमात्र अभयारण्य है।
  • गेंगेटिक डॉल्फिन ताजे पानी के चार डॉल्फ़िन में से एक है| तीन अन्य चीन में यांग्त्ज़ी नदी के डॉल्फिन, जो अब विलुप्त होने के कगार पर हैं| इसके अलावा, पाकिस्तान में सिंधु नदी का भुलान और लैटिन अमेरिका में अमेज़ॅन नदी का बोटो डॉल्फिन के लिये विख्यात हैं।
  • इनकी संख्या में गिरावट का प्रमुख कारण नदी में बड़े पैमाने पर मालवाहक जहाजों का आवागमन तथा निष्कर्षण संबंधी गतिविधियाँ हैं। गंगा के डॉल्फ़िन बड़े जहाज प्रणोदकों द्वारा उत्पन्न ध्वनि प्रदूषण और निष्कर्षण से पीड़ित होते हैं|
  • इनकी संख्या में गिरावट के अन्य कारण हैं: बढ़ता प्रदूषण, मानव हस्तक्षेप, नदी की गाद और नदी जल के प्रवाह तथा जल स्तर में कमी।

गंगा नदी डॉल्फ़िन

  • सामान्य नाम : गंगा नदी डॉल्फ़िन, ब्लाइंड डॉल्फ़िन, गंगा ससु, हिहु, साइड-स्विमिंग डॉल्फिन, दक्षिण एशियाई नदी डॉल्फिन।
  • वैज्ञानिक नाम : Platanista gangetica
  • IUCN स्थिति : लुप्तप्राय
  • यह CITES की परिशिष्ट 1 में सूचीबद्ध है।

नोट : CITES ( The Convention of International Trade in Endangered Species of Wild Fauna and Flora) एक अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन है जिसका उद्देश्य वन्य जीवों और पौधों के प्रतिरूप को किसी भी प्रकार के खतरे से बचाना है तथा इनके अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को रोकना है|

  • वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 की अनुसूची 1 : यह वन्य जीवों को पूर्ण सुरक्षा प्रदान करता है और इसके तहत अपराध के लिये उच्चतम दंड निर्धारित करता है।
  • विक्रमशिला गंगेटिक डॉल्फिन अभयारण्य : यह भारत में बिहार के भागलपुर ज़िले में स्थित है। अभयारण्य सुल्तानगंज से कहलगाँव तक गंगा नदी के 50 किमी. के फैलाव में स्थित है। इसे 1991 में लुप्तप्राय गंगेटिक डॉल्फ़िन के लिये संरक्षित क्षेत्र के रूप में नामित किया गया था।
अविश्वास प्रस्ताव

No-Confidence

  • लोकसभा के सभापति ने सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के नोटिस को स्वीकार कर लिया है।
  • सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के नोटिस को तभी स्वीकार किया जाता है जब निम्न सदन के कम-से-कम 50 सदस्य इसका समर्थन कर दें।
  • तत्पश्चात अध्यक्ष मतदान के आधार पर चर्चा के लिये एक तारीख तय करता है।
  • जब लोकसभा मंत्रिपरिषद के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित करती है, तो राज्यसभा के मंत्रियों सहित सभी मंत्रियों को इस्तीफा देना पड़ता है।
  • संविधान के अनुच्छेद 75 में कहा गया है कि मंत्रिपरिषद सामूहिक रूप से लोकसभा के प्रति उत्तरदायी है।

 

सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करना महिलाओं का मौलिक अधिकार

सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र-2 शासन व्यवस्था, संविधान, शासन प्रणाली, सामाजिक न्याय तथा अंतर्राष्ट्रीय संबंध
(खंड-05 : संसद और राज्य विधायिका- संरचना, कार्य, कार्य-संचालन, शक्तियाँ एवं विशेषाधिकार और इनसे उत्पन्न होने वाले विषय)

sabarimala-temple

संदर्भ

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि महिलाओं को केरल के सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने और बगैर किसी भेदभाव के पुरुषों की तरह पूजा-अर्चना करने का संवैधानिक अधिकार है। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पाँच सदस्यीय संविधान पीठ ने कहा कि यदि कोई कानून नहीं भी हो, तब भी मंदिर में पूजा-अर्चना करने के मामले में महिलाओं से भेदभाव नहीं किया जा सकता। मासिक धर्म के कारण प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने के लिये एक महिला को उसके अधिकार से वंचित करना अनुचित है|

प्रमुख बिंदु 

  • संविधान पीठ उस याचिका पर सुनवाई कर रही है जिसमें 10-50 वर्ष की आयु वर्ग की महिलाओं के सबरीमाला मंदिर में प्रवेश पर प्रतिबंध के देवस्वोम बोर्ड के फैसले को चुनौती दी गई है।
  • न्यायमूर्ति आर.एफ. नरीमन, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर, न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा की सदस्यता वाली पीठ ने कहा, “जब कोई पुरुष मंदिर में प्रवेश कर सकता है तो महिला क्यों नहीं प्रवेश कर सकती। मंदिर में पुरुषों के प्रवेश को छूट मिल सकती है तो महिलाओं पर यह नियम क्यों नहीं लागू हो सकता।“
  • मुख्य न्यायाधीश ने कहा, सबरीमाला मंदिर समेकित निधि से धन अर्जित करता है  जिसमें पूजा-अर्चना के लिये दुनिया भर से आ रहे लोगों का योगदान होता है, अतः यह “पूजा का सार्वजनिक स्थल है”।
  • न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा, ” पूजा के संबंध में मासिक धर्म की प्रासंगिकता क्या है, इसका पूजा से कुछ लेना-देना नहीं है और ऐसे किसी भी प्रतिबंध की अनुमति नहीं दी जा सकती है। आपका संवैधानिक अधिकार राज्य (केरल) कानून के तहत अधिकार पर निर्भर नहीं है। जब आप कहते हैं कि महिलाएँ ईश्वर या प्रकृति द्वारा निर्मित हैं, तो मासिक धर्म के आधार पर कोई प्रतिबंध नहीं हो सकता।“
  • न्यायमूर्ति रोहिंग्टन नरीमन ने कहा, “संविधान के अनुच्छेद 25 के तहत अधिकार को सुसंगत बनाना होगा। इस अधिकार पर कोई अनचाहे प्रतिबंध नहीं हो सकते।“
  • सीजेआई ने कहा, “मंदिर और पूजा में प्रवेश करने के अधिकार के कई पहलू हैं। कोई कह सकता है कि एक व्यक्ति केवल एक बिंदु तक मंदिर के अंदर जा सकता है और देवता के पास नहीं जा सकता जहाँ पुजारी प्रवेश करते हैं। लेकिन मंदिर में प्रवेश पर कोई प्रतिबंध नहीं हो सकता है|
  • याचिकाकर्त्ताओं के लिये वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने तर्क दिया कि “धर्म आपके और आपके ईश्वर के बीच एक रिश्ता है।”
  • पूजा करने वाली महिला के रूप में आपका अधिकार कानून पर भी निर्भर नहीं है। यह आपका संवैधानिक अधिकार है। किसी मंदिर में प्रवेश करने के प्रतिरोध का अधिकार किसी को नहीं है|

पृष्ठभूमि 

  • सबरीमाला मंदिर में परंपरा के अनुसार, 10 से 50 साल की महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध है| मंदिर ट्रस्ट के अनुसार, यहाँ 1500 साल से महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध है| इसके लिये कुछ धार्मिक कारण बताए जाते हैं|
  • केरल के यंग लॉयर्स एसोसिएशन ने इस प्रतिबंध के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में 2006  में पीआईएल दाखिल की थी|
  • सबरीमाला मंदिर में हर साल नवंबर से जनवरी तक श्रद्धालु अयप्पा भगवान के दर्शन के लिये जाते हैं, इसके अलावा पूरे साल यह मंदिर आम भक्तों के लिये बंद रहता है। भगवान अयप्पा के भक्तों के लिये मकर संक्रांति का दिन बहुत खास होता है, इसीलिये उस दिन यहाँ सबसे ज़्यादा भक्त पहुँचते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, अयप्पा को भगवान शिव और मोहिनी (विष्णु जी का एक रूप) का पुत्र माना जाता है