UPSC CSE 2021 PRE TEST-1

1.सरकार की भारतीय संसदीय प्रणाली में

a) कार्यपालिका संवैधानिक आदर्शों के लिए उत्तरदायी होती है

b) न्यायपालिका कार्यपालिका को नियंत्रित करती है

c) कार्यपालिका विधायिका के प्रति उत्तरदायी होती है

d) विधायिका न्यायपालिका को नियंत्रित करती है

2.संसद कार्यपालिका पर बजटीय नियंत्रण का प्रयोग करती है, अर्थात बजट के अधिनियमन के माध्यम से अनुदान प्रदान करने से पूर्व निम्नलिखित किसके द्वारा नियंत्रण स्थापित करती है

a) लोक लेखा समिति

b) विभागीय स्थायी समिति

c) सरकारी उपक्रमों संबंधी समिति

d) प्राक्कलन समिति

3.भारत की आकस्मिकता निधि (Contingency Fund) के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए।

  1. निधि को सीधे भारत के संविधान द्वारा स्थापित किया गया है।
  2. निधि को राष्ट्रपति के नियंत्रण में रखा जाता है।
  3. राज्य स्तर पर ऐसी कोई निधि मौजूद नहीं है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) 1, 2

b) केवल 2

c) 2, 3

d) 1, 3

4.जलीय निकायों पर हिमाच्छादन में वृद्धि होने के कारण हो सकता/सकते है/हैं

  1. फाइटोप्लांकटन आबादी में आकस्मिक वृद्धि, जो प्रकाश संश्लेषण पर निर्भर नहीं होते हैं।
  2. झील में बेहतर ऑक्सीजन संचरण और पोषक तत्वों का पुनर्चक्रण।
  3. विंटरकिल (winterkill) की परिस्थितियों का निर्माण जो मछलियों और जीवों की बड़े पैमाने पर मौत का कारण बनती है।

सही उत्तर कूट का चयन कीजिए:

  1. a) 1 only
  2. b) केवल 3
  3. c) 1, 3
  4. d) 2, 3

5.अपशिष्ट जल उपचार के लिए निम्नलिखित में से कौन से सामान्य पौधे उपयोगी है/हैं?

  1. नींबू घास
  2. जलकुंभी
  3. कैना इंडिका

सही उत्तर कूट का चयन कीजिए:

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1, 2, 3

d) 1, 2

6.निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए

  1. मृदा और जल से दूषित पदार्थों को हटाने के लिए फायटोरिमेडियेशन का उपयोग किया जाता है।
  2. सभी दूषित पदार्थों का उपचार बायोरेमेडिएशन द्वारा आसानी से किया जाता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

7.मुद्रास्फीति का निम्नलिखित में से क्या परिणाम हो सकता/सकते है/हैं

  1. अधिक से अधिक लोग कार्यरत होने पर भी अर्थव्यवस्था की कुल उत्पादक क्षमता में कमी।
  2. अर्थव्यवस्था में वस्तुओं की अत्यधिक आपूर्ति।

सही उत्तर कूट का चयन कीजिए:

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

8.यदि अर्थव्यवस्था के कुल आकार में प्रतिवर्ष वृद्धि होती है, तो इसका आशय है कि

  1. जीडीपी वृद्धि में प्रतिवर्ष लगातार वृद्धि हो रही है।
  2. अर्थव्यवस्था में सकल पूंजी निर्माण में प्रतिवर्ष वृद्धि हो रही है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

9.विश्व के साथ होने वाले भारत के “चालू खाते (Current account)” लेनदेन में शामिल हैं

  1. वस्तुओं संबंधी निर्यात-आयात संतुलन
  2. विप्रेषण प्रवाह
  3. अदृश्य मदों का व्यापार
  4. विदेशी सरकारों द्वारा दिया गया ऋण

सही उत्तर कूट का चयन कीजिए:

a) 1, 2, 3

b) 3, 4

c) 1, 2

d) 1, 2, 3, 4

10.जैन धर्म की शिक्षाओं के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए।

  1. महावीर के अनुसार, निर्जीव वस्तुओं में भी आत्मा और चेतना की अलग-अलग मात्रा विद्यमान होती हैं।
  2. जैन धर्म परम ज्ञान की प्रति करने के लिए कठोर तपस्या और वैराग्य में विश्वास करता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

11.मौर्य साम्राज्य के निम्नलिखित अधिकारियों और उनकी संबंधित भूमिकाओं पर विचार कीजिए।

  1. नगरिका :       शहर का अधीक्षक
  2. गोपा :       विधिवेत्ता
  3. राजुक :       जिला प्रशासन
  4. युक्ता :       केंद्रीय राजकोष

उपर्युक्त में से कौनसे सही सुम्मेलित हैं?

a) 1, 3

b) 2, 3, 4

c) 1, 2, 3

d) 1, 2, 3, 4

12.पल्लव प्रशासन के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए।

  1. पल्लवों द्वारा मंदिरों को दी जाने वाली भूमि अनुदान को ब्रह्मादेय कहा जाता था।
  2. ब्राह्मणों को दी गई भूमि को कर मुक्त रखा गया।
  3. व्यापारियों और कारीगरों को करों का भुगतान करना आवश्यक था।

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं?

a) 1, 2

b) 2, 3

c) 1, 2, 3

d) केवल 2

13-तंजावुर चित्रकला के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए।

  1. यह मुख्यतः जन सामान्य के सामाजिक और आर्थिक जीवन को दर्शाती है।
  2. यह चित्रकला अर्द्ध-मूल्यवान पत्थरों और कांच के अलंकरण के लिए प्रसिद्ध है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

14.निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए।

  1. लाई हारोबा मुख्‍य उत्‍सवों में से एक है और आज भी मणिपुर में प्रस्‍तुत किया जाता है, पूर्व वैष्‍णव काल से इसका उद्भव हुआ था।
  2. लाई हरोबा नृत्य का प्रारंभिक रूप है जो मणिपुर में सभी शैलीगत नृत्यों का आधार है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

15.न्याय-वैशेषिक दर्शन में शामिल हैं

a) मीमांसा दर्शन

b) वेदांत दर्शन

c) योग दर्शन

d) सांख्य दर्शन

16.प्लेट विवर्तनिकी के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए।

  1. प्लेट टेक्टोनिक्स के लिए उत्तरदायी संचलन बल मेंटल में प्रवाहित होने वाली संवहनीय तरंगें हैं।
  2. रूपांतरित प्लेट सीमाओं पर, क्रस्ट का न तो निर्माण होता है और न ही नष्ट होती है क्योंकि प्लेटें परस्पर क्षैतिज रूप से संचरित होती हैं।
  3. मध्य अटलांटिक कटक अभिसारी सीमा का एक सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-से सही हैं?

a) 1, 2

b) 1, 3

c) 2, 3

d) 1, 2, 3

17.अंतर्भेदी और बहिर्भेदी चट्टानों के बीच अंतर के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए?

  1. बहिर्भेदी चट्टानें सूक्ष्म कणों से निर्मित होती हैं, जबकि अंतर्भेदी चट्टानें मोटे कणों वाली होती हैं।
  2. बहिर्भेदी चट्टानें अंतर्भेदी चट्टानों की तुलना में लंबी समयावधि के दौरान निर्मित होती हैं।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

18.किसी स्थान की जलवायु उसके निम्नलिखित किस कारक द्वारा आवश्यक रूप से प्रभावित नहीं होती है

a) अक्षांश

b) देशांतर

c) ऊंचाई और उच्चावच

d) महाद्वीपीयता

19.किर्गिस्तान के साथ सीमा साझा करने वाले देश हैं

  1. कजाकिस्तान
  2. चीन
  3. अफगानिस्तान
  4. उज्बेकिस्तान

सही उत्तर कूट का चयन कीजिए:

a) 1, 2, 3

b) 1, 2, 4

c) 2, 3, 4

d) 1, 2, 3, 4

20.किसी क्षेत्र का अपवाह तंत्र निम्नलिखित कारकों में से किसका परिणाम होती हैं

  1. भूवैज्ञानिक समयावधि
  2. चट्टानों की प्रकृति
  3. चट्टानों की संरचना
  4. स्थलाकृति
  5. जल प्रवाह की मात्रा और प्रवाह की बारम्बारता।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-से सही हैं?

a) 1, 2, 3

b) 1, 2, 3, 4

c) 1, 2, 3, 4, 5

d) 2, 3, 4, 5

21.ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (EODB) रैंकिंग के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए।

  1. विश्व बैंक द्वारा डूइंग बिजनेस रिपोर्ट प्रकाशित की जाती है, जिसमें ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (EODB) रैंकिंग शामिल होती है।
  2. 2014 से 2019 तक, भारत ने अपनी रैंकिंग में 100 स्थानों का सुधार किया है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

22.घाटे के मुद्रीकरण के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए।

  1. घाटे का मुद्रीकरण का अर्थ है अधिक मात्रा में मुद्रा का मुद्रण करना और इसे जनता में वितरित करना।
  2. 1991 के आर्थिक सुधारों के बाद से भारत में घाटे के मुद्रीकरण का प्रचलन नहीं है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

23.निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए

  1. AGMARK को भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम, 1986 द्वारा कानूनी रूप से लागू किया गया है।
  2. विपणन और निरीक्षण निदेशालय, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय AGMARK प्रमाणन योजना के कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

24.निम्नलिखित में से कौन से नैनोबॉट्स (Nanobots) के अनुप्रयोग हैं

  1. लक्षित दवा-वितरण
  2. हृदय की रक्त वाहिकाओं को खोलना
  3. शरीर में बायोप्सी करना

सही उत्तर कूट का चयन कीजिए:

a) 1, 2

b) 1, 2, 3

c) 1, 3

d) 2, 3

25.भारत में निम्नलिखित में से कौन-से प्रमाणन चिह्न सही सुम्मेलित हैं?

  1. बीआईएस हॉलमार्क (BIS hallmark): स्वर्ण आभूषणों की शुद्धता का प्रमाणन
  2. एफपीओ मार्क (FPO mark): सभी खाद्य उत्पादों के लिए अनिवार्य
  3. इकोमार्क (Ecomark): पारिस्थितिक तंत्र पर न्यूनतम प्रभाव के उद्देश्य से मानकों के एक सेट के अनुरूप उत्पादों हेतु
  4. आईएसआई मार्क (ISI mark): औद्योगिक उत्पादों हेतु।

सही उत्तर कूट का चयन कीजिए:

a) 1, 2, 3

b) 1, 3, 4

c) 1, 2, 4

d) 1, 2, 3, 4

ANSWERS

1- उत्तर: c)

  • संसदीय प्रणाली में कार्यपालिका और विधायिका के बीच संबंध को उत्तरदायी सरकार कहा जाता है।
  • कार्यकारी शाखा विधायी शाखा के विश्वास को नियंत्रित करने की क्षमता से अपनी लोकतांत्रिक वैधता प्राप्त करती है। विधायिका के प्रति कार्यपालिका जवाबदेह भी होती है।

2-उत्तर: b)

  • वित्तीय मामलों में कार्यपालिका पर संसदीय नियंत्रण दो चरणों में संचालित होता है:
  • बजट नियंत्रण, अर्थात्, बजट के अधिनियमन के माध्यम से अनुदान के विनियोग से पूर्व नियंत्रण; तथा
  • बजट पश्चात् नियंत्रण, अर्थात्, तीन वित्तीय समितियों – PAC, प्राक्कलन समिति और CoPU के माध्यम से अनुदान के विनियोग के पश्चात् नियंत्रण।
  • विभागीय स्थायी समितियाँ संबंधित मंत्रालयों / विभागों के अनुदानों की माँगों पर लोकसभा में चर्चा और मतदान करने से पूर्व विचार करती हैं। यह मंत्रालयों और विभागों की वार्षिक रिपोर्टों पर भी विचार करता है।

3-उत्तर: b)

  • संसद कानून द्वारा “भारत की आकस्मिकता निधि” के रूप में एक आकस्मिक निधि की स्थापना कर सकती है जिसमें समय-समय पर ऐसे कानून द्वारा निर्धारित राशि का भुगतान किया जा सकता है, और अनुच्छेद 115 या अनुच्छेद 116 के तहत कानून द्वारा संसद द्वारा इस तरह के व्यय की लंबित अनुज्ञप्ति को पूरा करने के प्रयोजनों के लिए इस तरह की निधि से उसके द्वारा किए जाने वाले अग्रिमों को सक्षम बनाने के लिए उक्त निधि को राष्ट्रपति के नियंत्रण में रखा जाता है।
  • किसी राज्य की विधायिका कानून के अनुसार “राज्य की आकस्मिक निधि” के रूप में एक आकस्मिक निधि को स्थापित कर सकती है, जिसमें समय-समय पर ऐसे कानून द्वारा निर्धारित राशि का भुगतान किया जा सकता है, और अनुच्छेद 205 या अनुच्छेद 206 के तहत कानून द्वारा संसद द्वारा इस तरह के व्यय की लंबित अनुज्ञप्ति को पूरा करने के प्रयोजनों के लिए इस तरह की निधि से उसके द्वारा किए जाने वाले अग्रिमों को सक्षम बनाने के लिए उक्त निधि को राज्यपाल के नियंत्रण में रखा जाता है।

4-उत्तर: b)

  • फाइटोप्लांकटन जल निकायों की ऊपरी सतह पर तैरते रहते हैं और इसे पनपने के लिए सूर्य के प्रकाश की आवश्यकता होती है। हिमाच्छादन उनके प्रजनन क्षेत्र और आबादी में कमी कर सकता है।
  • हिमाच्छादन वायुमंडल से पोषक तत्वों और ऑक्सीजन के आदान-प्रदान को अवरुद्ध करता है, हालांकि जल की धारा के भीतर भी ऐसा ही हो सकता है। लेकिन यह पहले से भी ख़राब स्थिति हो सकती है।
  • जल निकायों पर हिमाच्छादन प्रभावी रूप से प्रकाश को बाधित कर सकता है, जिससे यह जलीय निकाय अंधकारमय हो जाएगा।
  • इसलिए प्रकाश संश्लेषण की क्रिया समाप्त हो जाती है लेकिन श्वसन क्रिया जारी रहती है। इस प्रकार, उथली झीलों में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है और ऑक्सीजन की कमी के कारण मछलियों और अन्य जीवों की बड़े पैमाने पर मृत्यु हो जाती है। इस स्थिति को विंटरकिल (winterkill) के रूप में जाना जाता है।

5-उत्तर: c)

  • यूरोपीय संघ और भारत सरकार ने सह-वित्त पोषित परियोजना को यूरोपीय संघ और भारत में हरित अर्थव्यवस्था का समर्थन करने के लिए वर्धित जल उपयोग क्षमता के साथ जैव-उपचार अपशिष्ट जल क पुन: उपयोग को एकीकृत किया है।
  • इसने जल की कमी को दूर करने और कृषि में अपशिष्ट जल के सुरक्षित पुन: उपयोग में मदद करने में उल्लेखनीय सफलता प्रदर्शित की है। पौधों की प्रजातियों जैसे कि कैना इंडिका, लेमन ग्रास (सिंबोपोगोन), नैपियर (पेनिसेटम पेर्प्यूरम एक्स पनीसेतुम एरिकेरनम), पैरा ग्रास (यूरोकैटा म्यूटिका), टायफा (टायफा लतीफोलिया), जलकुंभी (इरिकोर्निया क्रिप्टस), वाटर लेटुस और एक खरपतवार प्रजाति एग्रेटम कॉन्जीओइड्स द्वारा रासायनिक ऑक्सीजन की मांग अपशिष्ट जल में 92% तक कम हो गई है।

6-उत्तर: a)

  • बायोरेमेडिएशन (Bioremediation) एक उपचार विधि है जिसमें खतरनाक पदार्थों को कम विषाक्त या गैर-विषाक्त पदार्थों में परिवर्तित करने हेतु प्राकृतिक रूप से मौजूद जीवों का उपयोग किया जाता है। इसमें मृदा, भूजल, कीचड़ और ठोस पदार्थों में
  • मौजूद कार्बनिक संदूषण को कम करने के लिए सूक्ष्मजीवों का उपयोग किया जाता है। बायोरेमेडिएशन सीटू या पूर्व सीटू में आयोजित किया जा सकता है।
  • मृदा और जल से दूषित पदार्थों को हटाने के लिए फायटोरिमेडियेशन (Phytoremediation) का उपयोग किया जाता है।
  • सूक्ष्मजीवों का उपयोग करके सभी दूषित पदार्थों का उपचार बायोरेमेडिएशन द्वारा आसानी से नहीं किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, कैडमियम और सीसा जैसी भारी धातुओं को सूक्ष्मजीवों द्वारा आसानी से अवशोषित या कैप्चर नहीं किया जाता है।

7-उत्तर: a)

  • सरल शब्दों में, मुद्रास्फीति का आशय मूल रूप से अत्यधिक पैसे में अल्प वस्तुओं की प्राप्ति, या अत्यधिक मांग की स्थिति में भी आपूर्ति के निम्न बने रहने से है। इन दोनों स्थितियों में, वस्तुओं को प्राप्त करने के लिए व्यक्तिगत उपभोक्ताओं द्वारा बोली लगाने के कारण सामानों की कीमतें तेजी से बढ़ती हैं।
  • अत्यधिक आपूर्ति की स्थिति में कीमतों में कमी होने की संभावना होती है (न की बढ़ने की)।
  • यदि आय में तेजी से वृद्धि होती है, तो वस्तुओं और सेवाओं की मांग में भी वृद्धि होगी। दूसरी ओर, यदि अर्थव्यवस्था बढ़ती मांग को पूरा करने में असमर्थ है, जैसे कि खराब अवसंरचना, उत्पादन में कमी आदि के कारण, तो उच्च आय के कारण कीमतों में वृद्धि होगी और इसके परिणामस्वरूप उच्च मुद्रास्फीति की स्थिति उत्पन्न होगी।

8-उत्तर: c)

  • बाजार मूल्य पर जीडीपी के अंतर्गत बाजार मूल्य पर एक वर्ष के भीतर उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं के कुल मूल्य की गणना की जाती है।
  • यदि इसमें वृद्धि होती है, तो इसका अर्थ है कि उद्यमियों द्वारा अधिक वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन किया जा रहा है।
  • यह वृद्धि समान मशीनरी और श्रम के साथ वास्तविक निवेश में वृद्धि के बिना भी हो सकती है।
  • यदि अर्थव्यवस्था का आकार प्रत्येक वर्ष समानुपातिक रूप से बढ़ता है और विकास दर सकारात्मक होती है, तो इसमें आवश्यक रूप से वृद्धि नहीं होती है। इसलिए, कथन 1 गलत है।

9-उत्तर: a)

  • चालू खाता में वस्तु एवं सेवाओं के निर्यात और आयात तथा भुगतान अंतरण का रिकॉर्ड रखा जाता है।
  • अदृश्य मदों (invisible trade) के व्यापार के रूप में निरूपित सेवाओं का व्यापार।
  • भुगतान अंतरण संबंधी प्राप्तियां, जो किसी देश के निवासियों को ‘मुफ्त में’ प्राप्त होती हैं और जिसके बदले में किसी भी प्रकार का वर्तमान में या भविष्य में भुगतान नहीं किया जाता है।

इसमें विप्रेषण, उपहार और अनुदान शामिल होता हैं। ये आधिकारिक या निजी हो सकते हैं।

10-उत्तर: d)

  • महावीर चेतन और निर्जीव सभी वस्तुओं के अस्तित्व में विश्वास करते थे, जिनमें आत्मा और चेतना की अलग-अलग मात्रा विद्यमान होती हैं। उनमें जीवन मौजूद होता है और पीड़ा महसूस करती हैं।
  • यहां तक कि कृषि कार्य को भी पाप माना जाता था क्योंकि यह पृथ्वी, कृमियों और जानवरों को चोट पहुंचाता है।
  • इसी तरह वैराग्य और त्याग के सिद्धांत को भी उपवास, निर्वस्त्रता और आत्म-यातना के रूप में माना गया है।

11-उत्तर: a)

  1. कौटिल्य और मेगस्थनीज दोनों ने मौर्य साम्राज्य में नगरपालिका प्रशासन की व्यवस्था प्रदान की थी।
  2. अर्थशास्त्र में नगरिका या नगर अधीक्षक की भूमिका के सम्बन्ध में एक सम्पूर्ण अध्याय को शामिल किया गया है। उनका मुख्य कर्तव्य कानून और व्यवस्था बनाए रखना था।
  3. जिला प्रशासन राजुकों के अधीन था, जिनकी स्थिति और कार्य आधुनिक कलेक्टर के समान थे। उन्हें युक्ता या अधीनस्थ अधिकारियों द्वारा सहायता प्रदान की जाती थी।
  4. ग्राम प्रशासन ग्रामानी के अधीन होता था और उनके अधिकारी श्रेष्ठ को गोपा कहा जाता था जो दस या पंद्रह गांवों के प्रभारी होते थे।

12-उत्तर: b)

  • राजा ने देवधन के रूप में जाने वाले मंदिरों और ब्रह्मादेय के रूप में जाने वाले ब्रह्मणों को भूमि-अनुदान प्रदान किया।
  • भूमि कर राजस्व का प्राथमिक स्रोत था। ब्रह्मादेय और देवधन भूमि को कर मुक्त रखा गया।
  • व्यापारियों और कारीगरों जैसे कि बढ़ई, सुनार, धोबी, तेली और बुनकरों द्वारा कर का भुगतान किया जाता था।

13-उत्तर: a)

  • तंजौर चित्रकला एक शास्त्रीय दक्षिण भारतीय चित्रकला शैली है, जिसका उदगम तंजावुर शहर (तंजौर के रूप में प्रतिष्ठित) से हुआ था और यह समीपवर्ती एवं
  • भौगोलिक दृष्टि से तमिल देश में फैल गयी थी।
  • इस कला रूप का विकास लगभग 1600 ई. के आसपास हुआ था। यह चित्रकला अधिकांशत: देवी-देवताओं की हैं क्योंकि चित्रकला की यह कला उस समय में समृद्ध हुई जब कई राजवंशों के शासकों द्वारा उत्कृष्ट मंदिरों का निर्माण किया जा रहा था।

14-उत्तर: c)

  • लाई हारोबा मुख्‍य उत्‍सवों में से एक है और आज भी मणिपुर में प्रस्‍तुत किया जाता है, पूर्व वैष्‍णव काल से इसका उद्भव हुआ था। लाई हारोबा नृत्‍य का प्राचीन रूप है, जो मणिपुर में सभी शैली के नृत्‍य के रूपों का आधार है। इसका शाब्दिक अर्थ है- देवताओं का आमोद-प्रमोद । यह नृत्‍य तथा गीत के एक अनुष्‍ठानिक अर्पण के रूप में प्रस्‍तुत किया जाता है। मायबा और मायबी (पुजारी और पुजारिनें) मुख्‍य अनुष्‍ठानक होते हैं, जो सृष्टि की रचना की विषय-वस्‍तु को दोबारा अभिनीत करते हैं।

15-उत्तर: a)

  • मीमांसा दर्शन मूलतः निर्वचन, प्रयोग और वेद के संहिता और ब्राह्मण भागों के विषयों के उपयोग का विश्लेषण है।
  • मीमांसा दर्शन के अनुसार, वेद शाश्वत हैं और सभी ज्ञान के आधार हैं तथा धर्म का अर्थ वेदों द्वारा निर्धारित कर्तव्यों की पूर्ति है।
  • यह दर्शन न्याय-वैशेषिक दर्शन को समाहित करता है और वैध ज्ञान की अवधारणा पर बल देता है।

16-उत्तर: a)

प्लेट सीमाओं के चार प्रकार होते हैं:

  • अपसारी सीमाएँ (Divergent boundaries) – जहां नई क्रस्ट का निर्माण होता है क्योंकि प्लेटें परस्पर दूर संचरित होती हैं।
  • अभिसारी सीमाएँ (Convergent boundaries) – जहाँ क्रस्ट नष्ट हो जाती है क्योंकि एक प्लेट दूसरी प्लेट के नीचे क्षेपित हो जाती है।
  • रूपांतरित सीमाएँ (Transform boundaries ) – जहाँ क्रस्ट का न तो निर्माण होता है और न ही नष्ट होती है क्योंकि प्लेटें परस्पर क्षैतिज रूप से संचरित होती हैं।
  • प्लेट सीमा क्षेत्र – एक विस्तृत क्षेत्र जहाँ सीमाएँ बेहतर रूप से परिभाषित नहीं है और प्लेटों की परस्पर अंत:क्रियायों का प्रभाव स्पष्ट नहीं हैं।
  • अपसारी सीमाएँ प्रसारित केंद्रों के साथ पाई जाती हैं जहाँ प्लेटें परस्पर दूर संचरित होती हैं और मेंटल से आने वाले मेग्मा से नई क्रस्ट का निर्माण होता है।
  • मध्य अटलांटिक कटक अपसारी सीमा का एक सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है।

17-उत्तर: b)

  • अंतर्भेदी चट्टानों का निर्माण मैग्मा और बहिर्भेदी चट्टानों का निर्माण लावा से होता है।
  • अंतर्भेदी चट्टानें (Intrusive rocks): चूँकि पृथ्वी के अंदर मैग्मा को ठंडा करने के लिए वायु का अभाव है , इसलिए इन चट्टानों का निर्माण बहुत धीमी गति से होता हैं। इन चट्टानों की संरचना बड़े क्रिस्टल की उपस्थिति को दर्शाती है। ये क्रिस्टल चट्टान का निर्माण करने के लिए परस्पर संबद्ध हो जाते हैं।
  • इन चट्टानों को संगठित होने में अत्यधिक समय लगता है और ये पृथ्वी की सतह से गहराई में स्थित होती हैं।
  • अत्यधिक धीमी गति से शीतलन होने के कारण इन चट्टानों का निर्माण मोटे कणों से होता है।
  • अंतर्भेदी चट्टानों के कुछ आदर्श उदाहरण डायराइट, गैब्रो और ग्रेनाइट हैं।
  • विश्व भर की विभिन्न पर्वत श्रृंखलाओं के कोर के अधिकांश भाग का निर्माण अंतर्भेदी चट्टानों से हुआ है।
  • बहिर्भेदी चट्टान (Extrusive Rocks): कभी-कभी, पिघली हुई चट्टानें दरारों के माध्यम से पृथ्वी की सतह पर प्रवाहित होने लगती हैं।
  • यह मैग्मा लावा के रूप में प्रवाहित होता है और वायु के संपर्क में आते ही ठंडा हो जाता है।
  • पृथ्वी की सतह पर प्रवाहित होने वाले मैग्मा से बनने वाली आग्नेय चट्टानों को बहिर्भेदी चट्टानें कहा जाता है।
  • जैसे ही ये चट्टानें ठंडी होती हैं तो शीघ्र ही संगठित हो जाती हैं और उन्हें बड़े क्रिस्टल बनाने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिलता है। इस प्रकार, इन चट्टानों में सूक्ष्म क्रिस्टलों का निर्माण हो जाता है।

 

18-उत्तर: b)

किसी क्षेत्र की जलवायु को प्रभावित करने वाले कारकों में स्थान, ऊंचाई, समुद्र से दूरी और उच्चावच शामिल होते हैं। जलवायु अनिवार्य रूप से देशांतर से प्रभावित नहीं होती है, लेकिन अक्षांश सूर्यातप की उपलब्धता को प्रभावित करता है। कोई भी भौगोलिक कारक (वायुदाब, तापमान, वायु आदि) देशांतर पर निर्भर नहीं होते हैं।

 

19-उत्तर: b)

  • किर्गिस्तान एक स्थलरुद्ध देश है, जहाँ पहाड़ी क्षेत्र विद्यमान हैं। यह उत्तर में कजाकिस्तान, पश्चिम में उजबेकिस्तान और दक्षिण-पश्चिम में तजाकिस्तान, दक्षिण-पश्चिम और पूर्व में चीन से घिरा हुआ है। इसकी राजधानी और सबसे बड़ा शहर बिश्केक है।

 

20-उत्तर: c)

सुव्यवस्थित चैनलों के माध्यम से जल के प्रवाह को ‘अपवाह’ के रूप में जाना जाता है और ऐसे चैनलों के नेटवर्क को ‘अपवाह तंत्र’ कहा जाता है। किसी क्षेत्र का जल निकासी पैटर्न पारिस्थितिक समयावधि, चट्टानों की प्रकृति और संरचना, स्थलाकृति, ढाल, जल के प्रवाह की मात्रा और प्रवाह की बारम्बारता का परिणाम होता है

21-उत्तर: a)

22-उत्तर: c)

  • साधारण शब्दों में, घाटे के मुद्रीकरण का अर्थ है अधिक मात्रा में मुद्रा का मुद्रण करना। दूसरे शब्दों में, घाटे का मुद्रीकरण तब होता है जब RBI सरकार के व्ययों के लिए निधि प्रदान करने के लिए प्राथमिक बाजार से सरकारी प्रतिभूतियों को सीधे खरीदता है।
  • भारत में घाटे का मुद्रीकरण 1997 तक प्रचलन में था, जिसमें केंद्रीय बैंक द्वारा एड-हॉक ट्रेजरी बिल जारी करने के माध्यम से सरकारी घाटे का स्वचालित रूप से विमुद्रीकरण किया जाता था।

हेलीकॉप्टर मनी क्या है?

  • यह एक अपरंपरागत मौद्रिक नीतिगत उपकरण है, जिसका उद्देश्य एक मंदित अर्थव्यवस्था में सुधार करना है। इसके तहत अधिक मात्रा

 

23-उत्तर: d)

  • AGMARK भारत में कृषि उत्पादों के लिए एक प्रमाणन चिह्न है, जो यह आश्वासन देता है कि ये उत्पाद कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की एक एजेंसी, विपणन और निरीक्षण निदेशालय द्वारा अनुमोदित मानकों के एक सेट के अनुरूप हैं।
  • AGMARK को कृषि उपज (श्रेणीकरण और चिह्नांकन) अधिनियम 1937 (1986 में संशोधित) द्वारा भारत में कानूनी रूप से लागू किया गया है।

24-उत्तर: b)

  • वैज्ञानिकों ने न केवल कैंसर से लड़ने के लिए, बल्कि हृदय की रक्त वाहिकाओं को खोलने, बायोप्सी लेने या शरीर में कुछ रसायनों के स्तर को मापने के लिए नॉनबॉट्स के उपयोग की खोज की है। एक नैनोबोट एक उपकरण होता है जिसका आकार आमतौर पर 1-10 माइक्रोमीटर (एक माइक्रोमीटर एक मीटर का दसवां हिस्सा) होता है, जो लगभग लाल रक्त कोशिका के आकार का होता है। यह मोटर, कंप्यूटर चिप या कैमरा जैसे पारंपरिक रोबोट तत्व से भी बहुत छोटा होता है।

25-उत्तर: b)

  • वर्तमान में भारत में लागू प्रमाणन चिह्न हैं:
  • सभी कृषि उत्पादों के लिए एगमार्क (Agmark)।
  • बीआईएस हॉलमार्क (BIS hallmark): स्वर्ण आभूषणों की शुद्धता को प्रमाणित करता है।
  • इकोमार्क (Ecomark) पारिस्थितिक तंत्र पर न्यूनतम प्रभाव के उद्देश्य से मानकों के एक सेट के अनुरूप उत्पादों के लिए भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा जारी किया गया एक प्रमाणन चिह्न है।
  • एफपीओ मार्क (FPO mark): भारत में सभी प्रसंस्कृत फल उत्पादों के लिए एक अनिवार्य चिह्न है।
  • जैविक खेती वाले खाद्य उत्पादों के लिए इंडिया ऑर्गेनिक सर्टिफिकेशन।
  • बीआईएस हॉलमार्क (BIS hallmark): औद्योगिक उत्पाद के लिए।

सभी खाद्य उत्पादों के लिए FSSAI।