UPSC DAILY CURRENT 05-07-2018

[1]

केंद्रीय सतर्कता आयोग के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा/से सत्य है/हैं?

  1. यह एक संवैधानिक संस्था है।
  2. इसके आयुक्तों को पद से हटाने की शक्ति राष्ट्रपति के पास है।
  3. इनका कार्यकाल 5 वर्ष का होता है।

नीचे दिये कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिये।

A) केवल 1 और 2
B) केवल 2 और 3
C) केवल 2
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर: (c)
व्याख्या:

  • केंद्रीय सतर्कता आयोग सरकारी भ्रष्टाचार को रोकने के लिये केंद्र सरकार की एक प्रमुख निगरानी संस्था है। इसका गठन भ्रष्टाचार रोकथाम पर बनी के. संथानम समिति (1962-64) की सिफारिशों पर फरवरी 1964 में केंद्र सरकार द्वारा किया गया था। केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) अधिनियम, 2003 के प्रावधानों के अनुसार, यह एक स्वायत्त सांविधिक निकाय है और किसी भी कार्यकारी प्राधिकरण से स्वतंत्र है। इसलिये कथन 1 सही नहीं है।
  • यह एक बहुसदस्यीय संस्था है, इसके अंतर्गत एक अध्यक्ष और दो या दो से कम सदस्य (आयुक्त) होते हैं। इनकी नियुक्ति एक तीन सदस्यीय समिति की सिफारिश पर राष्ट्रपति द्वारा की जाती है। समिति में प्रधानमंत्री (प्रमुख), लोकसभा में विपक्ष का नेता और केंद्रीय गृह मंत्री शामिल होते हैं। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति केंदीय सतर्कता आयुक्त या अन्य सतर्कता आयुक्तों को कुछ परिस्थितियों यथा- दिवालिया, लाभ का पद धारण करने, मानसिक या शारीरिक अक्षमता आदि में उनके पद से हटा सकता है। अतः कथन 2 सही है।
  • केंद्रीय सतर्कता आयोग के आयुक्तों का कार्यकाल 4 वर्ष या 65 वर्ष की आयु जो भी पहले हो, तक होता है। गौरतलब है कि ये अपने कार्यकाल के पश्चात् केंद्र या राज्य सरकार के अधीन किसी भी पद को धारण नहीं कर सकते हैं।
[2]

लोकपाल और लोकायुक्त अधिनियम, 2013 के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. यह अधिनियम भारत और भारत के बाहर के लोक सेवकों दोनों पर ही लागू होता है।
  2. केवल उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश या भारत का मुख्य न्यायाधीश ही लोकपाल के अध्यक्ष रूप में नियुक्त हो सकता है।
  3. लोकपाल के सदस्य या अध्यक्ष बनने हेतु न्यूनतम आयु 35 वर्ष निर्धारित है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सत्य है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 1 और 3
C) केवल 2 और 3
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर: (a)
व्याख्याः

  • लोकपाल और लोकायुक्त अधिनियम, 2013 के प्रावधान भारत में भारत के बाहर के लोक सेवकों दोनों पर लागू होंगे। इसलिये कथन (1) सत्य है।
  • लोकपाल के अध्यक्ष बनने हेतु निम्नलिखित व्यक्ति पात्र है-
    ♦ जो भारत का मुख्य न्यायमूर्ति है या रहा है। अथवा,
    ♦ जो उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश रहा है या है। अथवा,
    ♦ कोई ऐसा विख्यात व्यक्ति जिसके पास भ्रष्टाचार-विरोध नीति, लोक प्रशासन, सर्तकता, वित्त, विधि और प्रबंध से संबंधित विषयों में विशेष ज्ञान और इन क्षेत्रों में कम-से-कम 25 वर्ष की विशेषज्ञता हो। इसलिये कथन (2) असत्य है।
  • लोकपाल के सदस्य या अध्यक्ष के लिये न्यूनतम आयु 45 वर्ष निर्धारित है। इसलिये कथन 3 असत्य है।
  • उल्लेखनीय है कि लोकपाल एवं लोकायुक्त अधिनियम, 2013 के तहत लोकपाल के अध्यक्ष की नियुक्ति एक चयन समिति की सिफारिशों के आधार पर राष्ट्रपति द्वारा की जाती है। इस चयन समिति में प्रधानमंत्री (अध्यक्ष), लोकसभा का अध्यक्ष, लोकसभा में विपक्ष का नेता, भारत का मुख्य न्यायाधीश या उसके द्वारा नामनिर्दिष्ट उच्चतम न्यायालय का कोई न्यायाधीश एवं इन सदस्यों की सिफारिश पर राष्ट्रपति द्वारा नामनिर्दिष्ट कोई विख्यात विधिवेत्ता शामिल हैं।
  • इस अधिनियम के अनुसार, लोकपाल के अध्यक्ष को 5 वर्ष के लिये या 70 वर्ष की आयु तक (जो भी पहले हो), के लिये नियुक्त किया जाता है। वर्तमान में लोकपाल की संरचना में एक अध्यक्ष और आठ अन्य सदस्य शामिल हैं। ये पुनर्नियुक्ति के योग्य नहीं होते हैं।
  • ध्यातव्य है कि हाल ही में सरकार ने लोकसभा में विपक्ष के नेता के अभाव के कारण चयन समिति के गठन में असमर्थता जताई थी और इस अधिनियम में संशोधन प्रस्तावित किया था। हालाँकि, सर्वोच्च न्यायालय ने इसे वर्तमान स्वरूप में व्यवहार्य बताया है और कहा कि चयन समिति में पद रिक्त होने के बावजूद इसमें नियुक्ति करने का प्रावधान मौजूद है।
  • इस तरह वर्तमान चयन समिति में प्रधानमंत्री, लोकसभा अध्यक्ष और भारत के मुख्य न्यायाधीश शामिल हैं। हाल ही में प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने विख्यात विधिवेत्ता के रूप में पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी को नियुक्त किया है जो उम्मीदवारों की सूची तैयार करेगा।
[3]

एशिया प्रशांत व्यापार समझौता (Asia-Pacific Trade Agreement) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये।

  1. यह संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद से संबंधित है।
  2. यह एक मुक्त व्यापार समझौता (Free Trade Agreement) है।
  3. भारत इसका संस्थापक सदस्य है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सत्य है/हैं?

A) केवल 1 और 2
B) केवल 2 और 3
C) केवल 1 और 3
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर: (c)
व्याख्या:

एशिया-प्रशांत व्यापार समझौता (Asia-Pacific Trade Agreement) संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद के एक क्षेत्रीय आयोग एशिया और प्रशांत के लिये संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग (UNESCAP) की पहल है। अतः कथन 1 सही है।

  • एशिया-प्रशांत व्यापार समझौता (Asia-Pacific Trade Agreement) एशिया-प्रशांत देशों के बीच सबसे पुरानी अधिमान्य (preferential) व्यापार संधि है। उल्लेखनीय है कि मुक्त व्यापार समझौते (Free Trade Agreement) के अंतर्गत सेवाओं के व्यापार और निवेश को बढ़ावा देने के मानदंडों को उदार बनाने के स्थान पर उनके बीच कारोबार की जाने वाली अधिकांश वस्तुओं पर शुल्क को समाप्त या कम किया जाता है। जबकि अधिमान्य व्यापार समझौते (Preferential Trade Agreement) के तहत कुछ निर्धारित वस्तुओं पर ही शुल्क की कमी की जाती है। अतः कथन 2 गलत है।
  • एशिया-प्रशांत व्यापार समझौते (Asia-Pacific Trade Agreement) के सदस्य देशों में बांग्लादेश, चीन, भारत, लाओस, कोरिया, श्रीलंका और मंगोलिया शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि भारत इसका संस्थापक सदस्य है जबकि मंगोलिया (2013) सबसे नवीनतम सदस्य है। इसलिये कथन 3 सही है।
  • एशिया-प्रशांत व्यापार समझौता (Asia-Pacific Trade Agreement) सन् 1975 में अस्तित्व में आया था। इसे पूर्व में बैंकॉक समझौता के रूप में भी जाना जाता था, किंतु सन् 2005 में इसका नामकरण एशिया-प्रशांत व्यापार समझौता (Asia-Pacific Trade Agreement) के रूप में किया गया। इसे विकासशील देशों के बीच टैरिफ रियायतों के आदान-प्रदान के माध्यम से व्यापार विस्तार के लिये गठित किया गया है।
  • हाल ही में भारत ने एशिया-प्रशांत व्यापार समझौते की प्रक्रिया को मज़बूती प्रदान करने की प्रतिबद्धता दर्शाते हुए पाँच देशों- चीन, बांग्लादेश, दक्षिण कोरिया, श्रीलंका और लाओस में 3,142 वस्तुओं पर टैरिफ रियायतों का विस्तार किया है, जो 1 जुलाई, 2018 से लागू हो गया।
[4]

हाल ही में मुंबई शहर स्थित किस स्थल को यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया है?

A) विक्टोरिया गोथिक और आर्ट डेको एनसेंबल
B) माउंट मैरी बेसिलिका
C) फिरोज जीजीभाय टावर्स
D) नेसेट इलियाहू सिनेगॉग
Hide Answer –

उत्तर: (a)
व्याख्या:

  • हाल ही में दक्षिणी मुंबई के विक्टोरिया गोथिक और आर्ट डेको एनसेंबल (Victoria Gothic and Art Deco ensemble) को यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल के रूप में मान्यता दी गई है। विक्टोरिया गोथिक और आर्ट डेको एनसेंबल भारत का 37वाँ, महाराष्ट्र का 5वाँ और मुंबई का तीसरा स्थल है, जिसे इस सूची में शामिल किया गया है।
  • उल्लेखनीय है कि कुल 37 स्थलों में 29 सांस्कृतिक, 7 प्राकृतिक और 1 मिश्रित स्थल के रूप में सूचीबद्ध हैं।
[5]

हाल ही में समाचारों में रहे “सीविजिल” (cVIGIL) मोबाइल एप निम्नलिखित में से किसके द्वारा विकसित किया गया है?

A) केंद्रीय सतर्कता आयोग
B) निर्वाचन आयोग
C) सर्वोच्च न्यायालय
D) नीति आयोग
Hide Answer –

उत्तर: (b)
व्याख्या:

हाल ही में समाचारों में रहे “cVIGIL” नामक मोबाइल एप को भारत के निर्वाचन आयोग द्वारा विकसित किया गया है। यह एक यूज़र फ्रेंडली एप है जिसे आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की सूचना देने के लिये बनाया गया है। इस एप्प के माध्यम से कोई भी व्यक्ति आदर्श आचार संहिता लागू करने के दौरान इसके उल्लंघन की सूचना चुनाव आयोग तक पहुँचा सकता है।

 

दुनिया के पहले जानवरों ने दिया ग्लोबल वार्मिंग में योगदान
(The world’s first animals caused global warming, claims new study)

global-warming

  • एक अध्ययन के अनुसार, 500 मिलियन वर्ष से भी पूर्व पृथ्वी पर हुआ पहले जानवरों का विकास ग्लोबल वार्मिंग का कारण बना।
  • शोध में पाया गया कि 520-540 मिलियन वर्ष पहले समुद्र में पशु जीवन की उत्पत्ति हुई, जिसने  समुद्र तल में स्थित कार्बनिक पदार्थ का विखंडन करना प्रारंभ कर दिया, जिससे वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ने लगी और ऑक्सीजन की मात्रा में कमी आने लगी।
  • अगले 100 मिलियन वर्षों में इन प्रारंभिक जानवरों के लिये परिस्थितियाँ बहुत अधिक कठोर हो गईं, क्योंकि कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा में वृद्धि के कारण ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव बढ़ने लगा तथा  समुद्री ऑक्सीजन के स्तर में बहुत अधिक गिरावट आ गई।
  • शोधकर्त्ताओं के अनुसार, इस बात का ज्ञान तो पहले से था कि पृथ्वी के इतिहास में इस बिंदु पर ग्लोबल वार्मिंग की घटना हुई थी, लेकिन यह नहीं पता था कि इसे जानवरों द्वारा संचालित किया जा सकता है।
  • यह शोध नेचर कम्युनिकेशंस नामक जर्नल में प्रकाशित हुआ।
एंड्रेस मैनुअल लोपेज़ ओब्राडोर
(Andres Manuel Lopez Obrador)

andres-manuel-lopez-obrador

  • हाल ही में मेक्सिको के राष्ट्रपति पद हेतु हुए चुनावों में एंड्रेस मैनुअल लोपेज़ ओब्राडोर )Andres Manuel Lopez Obrador) ने जीत हासिल की।
  • इस चुनाव में ओब्राडोर के प्रमुख प्रतिद्वंद्वी रिकार्डो अनाया (Ricardo Anaya) थे।
  • ध्यातव्य है कि एक दिसंबर को राष्ट्रपति पद की शपथ लेने वाले लोपेज़ देश के पहले वामपंथी राष्ट्रपति होंगे।
  • ओब्राडोर का जन्म ताबास्को (Tabasco) राज्य में हुआ था और पूर्व में वह मेक्सिको सिटी के मेयर पद पर कार्यरत थे।
  • मेक्सिको के आधुनिक इतिहास में यह पहला अवसर है, जब कोई उम्मीदवार कुल मतों के आधे से अधिक (53%) वोट पाकर देश का राष्ट्रपति बनेगा।
  • जीत हासिल करने के उपरांत ओब्राडोर ने मेक्सिको के लोगों से हिंसा से निपटने और भ्रष्टाचार को खत्म करने का वादा किया है।
अमेज़न के सेरानिया डी चिरीबिकेटे राष्ट्रीय उद्यान (Chiribiquete National Park) का विस्तार

chiribiquete-national-park

  • हाल ही में कोलंबियन अमेज़न के मध्य स्थित सेरानिया डी चिरीबिकेटे राष्ट्रीय उद्यान(Chiribiquete National Park) का विस्तार (4.3 मिलियन हेक्टेयर तक) किया गया है।
  • गौरतलब है कि इस पहल के बाद यह उष्णकटिबंधीय वर्षावन की रक्षा करने वाला दुनिया का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान बन गया है।
  • इसके साथ ही इसे यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल के रूप में भी घोषित किया गया है, जो अपने उत्कृष्ट पर्यावरण, सांस्कृतिक और सामाजिक मूल्य को दर्शाता है।
  • यह पार्क हज़ारों प्रजातियों का घर है, उनमें से दर्जनों स्थानिक हैं और कई गंभीर रूप से खतरे की कगार पर हैं।
  • इन स्थानिक प्रजातियों में मुख्य रूप से निम्न भूमि के टैपिर, विशाल ओटर, विशाल एंटेटर, ऊनी बंदर और जगुआर शामिल हैं।
  • हेरिटेज कोलंबिया डब्ल्यूडब्ल्यूएफ और इसके साझेदार ‘लाइफ इनीशिएटिव’ का एक हिस्सा है,जो दुनिया भर में संरक्षित क्षेत्रों के स्थायित्व के लिये एक अभिनव वित्तीय तंत्र चलाते  हैं।
तंजावुर पेंटिंग्स
(Thanjavur Paintings)

thanjavur-paintings

  • तंजावुर पेंटिंग तमिलनाडु के तंजावुर ज़िले (अंग्रेज़ी नाम तंजौर) के नाम पर नामित एक असाधारण, प्राचीन तथा लघु प्रकार की पेंटिंग है।
  • इस पेंटिंग का विकास 16वीं से 18वीं शताब्दी के मध्य नायक और मराठा साम्राज्य के संरक्षण के अंतर्गत हुआ था।
  • इस पेंटिंग में सोने की कारीगरी (gold foil), लकड़ी, काँच, माइका, हाथीदाँत और पांडुलिपियों आदि का प्रयोग किया जाता है।
  • पूर्व में तंजावुर कलाकारों द्वारा प्राकृतिक रंगों के मिश्रण का उपयोग करके केवल देवी-देवताओं का चित्रांकन किया जाता था, किंतु आधुनिक कलाकारों द्वारा इस पेंटिंग में काफी नवीनता और विविधता लाई गई है।
  • आमतौर पर इस पेंटिंग में बाहरी रेखा के लिये गहरे भूरे रंग तथा पृष्ठभूमि के लिये लाल रंग को अनुकूल माना जाता है।
  • लाल रंग की पृष्ठभूमि तंजावुर पेंटिंग का विशिष्ट चिह्न है, लेकिन कभी-कभी पृठभूमि हेतु हरे रंग का भी प्रयोग किया जाता है।
  • ध्यातव्य है कि तंजावुर पेंटिंग्स को भौगोलिक संकेतक भी प्राप्त है।

 

एनपीए की समस्या से निपटने के लिये परियोजना ‘सशक्त’

सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र – 3 : प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा तथा आपदा प्रबंधन।
(खंड-01 : भारतीय अर्थव्यवस्था तथा योजना, संसाधनों को जुटाने, प्रगति, विकास तथा रोज़गार से संबंधित विषय)

NPAs

चर्चा में क्यों?

देश में सरकारी बैंकों की एनपीए की समस्या को दूर करने के लिये ‘सशक्त’ नामक  एक समग्र नीति लागू करने की घोषणा की गई है। यह समग्र नीति सुनील मेहता की अध्यक्षता में गठित समिति की रिपोर्ट के आधार पर तैयार की गई है। ‘सशक्त’ योजना के अंतर्गत पाँच सूत्री फ़ॉर्मूले को लागू किया जाएगा जिसकी सिफारिश मेहता समिति द्वारा की गई है। उल्लेखनीय है कि लगभग 200 बैंक खाते ऐसे हैं जिनमें फँसा कर्ज़ 500 करोड़ रुपए से अधिक है।

प्रमुख बिंदु

  • 50 करोड़ तक की राशि के लोन को SME रेज़ोल्यूशन अप्रोच के तहत लिया जाएगा और 90 दिनों के भीतर इसका निपटारा किया जाएगा। समिति 90 दिनों के अंदर इन सभी खातों के बारे में फैसला करेगी कि इन्हें और अधिक ऋण देने की आवश्यकता है या बंद करने की।
  • 50 करोड़ से 500 करोड़ रुपए तक के NPA खातों में फँसे कर्ज़ के निपटान का फैसला अग्रणी बैंक की अगुवाई में लिया जाएगा।
  • 500 करोड़ रूपए से अधिक की राशि वाले अन्य NPA खातों का निपटान यदि AMC के माध्यम से भी संभव न हो तो ऐसे खातों का निपटान दिवालिया कानून के तहत किया जाएगा।
  • बैंक, विशेषज्ञों की एक समिति बनाकर प्रस्ताव तैयार करेगा और अगर वह इसे 180 दिनों के भीतर नहीं निपटा पाता है, तो इसका समाधान दिवालियापन कानून के तहत किया जाएगा।
  • इस परियोजना को लागू करने के लिये बैंकों की एक स्क्रीनिंग समिति का गठन किया जाएगा जो इस बात की निगरानी करेगी कि तय नियमों का अनुपालन पारदर्शी तरीके से किया जा रहा है कि नहीं।

AMC का होगा गठन

  • 500 करोड़ रुपए से अधिक के फँसे ऋण के लिये एसेट मैनेजमेंट कंपनी (AMC) की स्थापना की जाएगी।
  • AMC बैंकों द्वारा NPA घोषित किये हुए ऋण को खरीदेगा जिससे इस कर्ज़ का भार बैंकों पर नहीं पड़ेगा।
  • यह कंपनी पूरी तरह से स्वतंत्र होगी। इसमें सरकार का कोई दखल नहीं होगा।
  • AMC सरकारी और प्राइवेट क्षेत्रों के निवेशकों से धन जुटाएगी।

सुनील मेहता समिति

  • सुनील मेहता समिति का गठन जून 2018 में किया गया था जिसकी अध्यक्षता सुनील मेहता को सौंपी गई।
  • इस समिति से ‘बैड बैंक’ की व्यावहारिकता परखने एवं संपत्ति पुनर्निर्माण कंपनी के गठन के लिये सिफारिश दिये जाने हेतु कहा गया था।
  • इस समिति में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के चेयरमैन रजनीश कुमार, बैंक ऑफ़ बड़ौदा के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी पी एस जयकुमार तथा एसबीआई के उप प्रबंध निदेशक सी वेंकट नागेश्वर शामिल थे।