UPSC DAILY CURRENT 11-07-2018

[1]

उत्कृष्ट संस्थान के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. सरकार ने 20 सार्वजनिक संस्थानों की स्थापना अथवा विकास के लिये नियामक ढाँचा प्रदान करने का निर्णय लिया है, जिसे ‘उत्कृष्ट संस्थान’ कहा जाता है।
  2. इन संस्‍थानों को और अधिक कौशल एवं गुणवत्‍ता में सुधार के साथ अपने परिचालन स्‍तर को बढ़ाने के लिये और अधिक अवसर प्राप्‍त होंगे, जिससे कि वे शिक्षा के क्षेत्र में ‘विश्‍वस्‍तरीय संस्‍थान’बन सकें।

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर: (b)
व्याख्या: 

सरकार ने 20 संस्थानों (सार्वजनिक क्षेत्र से 10 और निजी क्षेत्र से 10) की स्थापना या विकास के लिये ‘प्रतिष्ठित संस्थान’ नामक नियामक ढाँचा प्रदान करने का निर्णय लिया है ताकि वे विश्व स्तर के शिक्षण और अनुसंधान संस्थान बन सकें। अतः कथन 2 सही है।
[2]

विश्व स्वास्थ्य संगठन के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. विश्व स्वास्थ्य संगठन संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है जो अंतर्राष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य से संबंधित है।
  2. इसका मुख्यालय लंदन में है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं।

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 न ही 2
Hide Answer –

उत्तर : (a)
व्याख्या:

विश्व स्वास्थ्य संगठन संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है जो अंतर्राष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य से संबंधित है। अतः कथन 1 सही है।

इसका मुख्यालय जेनेवा, स्विटज़रलैंड में हैं। अतः कथन 2 सही नहीं है।

WHO का गठन 7 अप्रैल, 1948 को हुआ था।

वर्ल्ड हेल्थ असेंबली WHO में निर्णय लेने वाला सर्वोच्च निकाय है।

असेंबली का वार्षिक सम्मलेन आयोजित किया जाता है तथा इसमें 194 सदस्य देशों के प्रतिनिधिमंडल भाग लेते हैं।

[3]

व्यापार निगरानी रिपोर्ट के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. इसे अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा जारी किया जाता है।
  2. यह वैश्विक व्यापार की स्थिति पर नवीनतम रुझानों पर प्रकाश डालता है।

नीचे दिये गए कूटों का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिये:

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 न ही 2
Hide Answer –

उत्तर : (b)
व्याख्या:

व्यापार निगरानी रिपोर्ट विश्व व्यापार संगठन द्वारा जारी की जाती है। रिपोर्ट का उद्देश्य वैश्विक व्यापार की स्थिति के नवीनतम रुझानों पर प्रकाश डालना है। अतः कथन 2 सही है।
[4]

रोगों के अंतर्राष्ट्रीय वर्गीकरण के संदर्भ में  निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. यह विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किया जाता है|
  2. यह बीमारी और मृत्यु के कारणों को समझने में मदद करता है और रोकथाम के उपायों पर सुझाव देता है।

नीचे दिये गए कूटों का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिये:

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 न ही 2
Hide Answer –

उत्तर: (c)
व्याख्या: 

रोगों का अंतर्राष्ट्रीय वर्गीकरण (ICD)

  • यह विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किया जाता है। अतः कथन 1 सही है।
  • ICD दुनिया भर में स्वास्थ्य प्रवृत्तियों और आँकड़ों की पहचान करने की नींव है  और इसमें चोटों, बीमारियों और मृत्यु के कारणों के लिये लगभग 55000 विशिष्ट कोड शामिल हैं।यह एक आम भाषा में स्वास्थ्य पेशेवरों को दुनिया भर में स्वास्थ्य जानकारी साझा करने की अनुमति देता है।
  • यह लोगों को यह समझाने में मदद करता है कि लोग बीमार कैसे होते हैं तथा उनकी मृत्यु कैसे हो जाती है साथ ही यह भी बताता है कि पीड़ित के जीवन को बचाने के लिये क्या किया जाना चाहिये| अतः कथन 2 सही है।
[5]

भारत में दीर्घकालिक वित्त पोषण के संदर्भ में, निम्नलिखित में से कौन-सा/से कथन सहीहै/हैं?

  1. इस मुद्दे को बैड लोन को हल करने के लिये परियोजना सशक्त के एक हिस्से के रूप में प्रस्तुत किया गया है।
  2. यह औद्योगिक परियोजनाओं के विस्तार और आधुनिकीकरण के लिये आवश्यक है।

नीचे दिये गए कूटों का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिये:

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर: (b)
व्याख्या:

परियोजना सशक्त बैड लोन को हल करने के लिये एक पाँच-आयामी रणनीति है। जबकि, दीर्घकालिक वित्त पोषण, वित्तपोषण का वह रूप है जिसके तहत उन व्यावसायिक संस्थाओं को वित्त प्रदान किया जाता है, जो पूंजी की कमी का सामना करते हैं। उद्योगों के लिये दीर्घकालिक वित्त में वे वित्तीय संसाधन शामिल हैं जो बैंकों द्वारा 3 साल और उससे अधिक की अवधि के लिये उद्योगों को प्रदान किये जाते हैं। दीर्घकालिक वित्त औद्योगिक परियोजनाओं के विस्तार और आधुनिकीकरण तथा इसकी निश्चित पूंजी व्यय आवश्यकता को पूरा करने के लिये भी आवश्यक है। अतः कथन 2 सही है।

 

‘सदमृदंगम’ (‘Sadmridangam’) को प्राप्त हुआ पेटेंट

Sadmridangam

  • पेटेंट, डिज़ाइन और ट्रेडमार्क के नियंत्रक जनरल ने ‘सदमृदंगम’ को ‘ड्रम’ श्रेणी के तहत पेटेंट प्रदान किया है।
  • दक्षिण भारतीय पर्क्यूशन उपकरण सदमृदंगम’ का हल्का संस्करण कुज्लहलममनम रामकृष्णन (Kuzhalmannam Ramakrishnan) द्वारा विकसित किया गया था।

प्रमुख तथ्य

  • पेटेंट एक वैधानिक अधिकार है, जो सरकार द्वारा सीमित अवधि के लिये आविष्कारक को उसके आविष्कार हेतु प्रदान किया जाता है ।
  • पेटेंट संरक्षण एक क्षेत्रीय अधिकार है और यही कारण है कि यह इसके सीमा क्षेत्र में ही कार्य करता है।
  • पेटेंट का दावा न केवल मौलिक प्रयासों के संबंध में किया जा सकता है, बल्कि नए आविष्कारों, शोध-पत्रों(जिनका वर्तमान के साथ-साथ भविष्य के लिये भी महत्त्व है) के संबंध में भी किया जा सकता है।
  • भारत में पेटेंट प्रणाली पेटेंट अधिनियम, 1970(1970 का नंबर 39)के अधीन कार्य करती है,जो पेटेंट(संशोधन)अधिनियम, 2005 और पेटेंट नियम 2003 में संशोधन करता है।
  • इस संसोधित उपकरण में ‘मृदंगम’ की सभी सुविधाएँ मौजूद हैं और यह कलाकारों के लिये अधिक गतिशीलता भी सुनिश्चित करता है।
अमेज़न के जंगलों में सात नई ततैया प्रजातियों की खोज की गई

Clistopyga

  • शोधकर्त्ताओं ने पेरू, वेनेज़ुएला और कोलंबिया से क्लिस्टोपीगा (Clistopyga) जीनस से संबंधित सात नई वाष्प प्रजातियों की खोज की है।
  • उनमें से सबसे उल्लेखनीय क्लिस्टोप्यागा क्रैसिकाडाटा (Clistopyga crassicaudata) है, जिसका नाम इनमें पाए गए मोटे ओविपोजिटर (Ovipositor) के आधार पर रखा गया है।
  • ओविपोज़िटर, एक ट्यूब की संरचना  सदृश्य अंग है जो कई कीड़ों में मौजूद होता है।
  • यह अंग अंडे देने के साथ ही जहर को इंजेक्ट करने में भी मदद करता है।
  • अन्य नई प्रजातियों में सी. कलकीमा (C.Kalkima), सी.पंचाई (C.panchei) और सी. टेरोने (C.Taironae) शामिल हैं, ये नाम कोलंबो के स्वदेशी जनजाति समूह (कालिमा, पंच और टोरानास) के नाम पर रखा गया है।
  • एक और प्रजाति का नाम सी. निग्रिवेन्ट्री (C.Nigriventri) रखा गया था, जो इसके बहुआयामी काले शरीर को इंगित करता है और दूसरी प्रजाति का नाम इसके बहुआयामी शारीरिक रंग के कारण सी. स्प्लेंडीडल (C.Splendidal) रखा गया है।
  • सी.इसाये (C.Isayae) नाम की सातवीं प्रजाति का शरीर सफेद और भूरे रंग का है।
ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में 50 वर्षों में पहले क्लोल्स

Claws

  • ऑस्ट्रेलियाई मुख्य भूमि के जंगलों में 50 वर्षों में पहली बार पूर्वी क्लोल्स पैदा हुए हैं।
  • इसने मर्सपियल की प्रजातियों के पुनरुत्थान की आशा जताई है, जो लोमड़ी के कारण तबाह हो गए थे।

 

दवा विक्रेताओं द्वारा जेनेरिक दवाओं का प्रदर्शन अनिवार्य

सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र– 2: शासन व्यवस्था, संविधान, शासन प्रणाली, सामाजिक न्याय एवं अंतर्राष्ट्रीय संबंध।
(खंड-13 : स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधनों से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित विषय)


संदर्भ
medicines

जल्द ही देश के सभी औषधि विक्रेताओं को अपनी दुकानों में जेनेरिक दवाओं (ऐसी दवाएं जिनका कोई पेटेंट नहीं होता है, स्थानीय रूप से निर्मित होती हैं तथा मूल सूत्रण (formulation) जिन पर वे आधारित होती हैं, की तुलना में सस्ती होती हैं) को प्रमुखता से प्रदर्शित करना आवश्यक होगा।

प्रमुख बिंदु

  • भारतीय ड्रग कंट्रोलर जनरल ने राज्यों के ड्रग कंट्रोलर को लिखे पत्र में निर्देश दिया है कि सभी दुकानें जिन्हें दवाइयाँ बेचने का लाइसेंस प्राप्त है, को जेनेरिक दवाओं के भंडारण के लिये विशेष शेल्फ/रैक का निर्माण करना चाहिये ताकि वे दवाएँ उपभोक्ताओं को दिखाई दें।
  • यह फैसला जेनेरिक दवाओं की व्यापक स्तर उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये भारत के ड्रग टेक्निकल एडवाइजरी बोर्ड (विशेषज्ञों का एक समूह) द्वारा दिये गए सुझावों का अनुसरण करते हुए लिया गया है।
  • इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने भी जेनेरिक दवाओं को बढ़ावा देने वाले इस कदम का समर्थन किया है।