UPSC DAILY CURRENT 16-06-2018

[1]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. महाराष्ट्र में स्थित बौद्ध धर्म से संबंधित साँची का स्तूप यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में भी शामिल है।
  2. वियतनाम के फॉ मिन्ह पेगोडा का संबंध ली राजवंश से है और हाल ही में, संयुक्त रूप से भारत के साँची स्तूप तथा फॉ मिन्ह पेगोडा पर डाक टिकट जारी किया गया है।

उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर (B)
व्याख्या:

  • हाल ही में मंत्रिमंडल ने डाक टिकट के संयुक्त मुद्दे पर भारत और वियतनाम के बीच एक समझौते को मंजूरी दे दी है।
  • इस संयुक्त डाक टिकट की थीम “प्राचीन वास्तुकला” (“Ancient Architecture”) थी, जिसमें भारत के साँची स्तूप और वियतनाम के फॉ मिन्ह पेगोडा (Pho Minh Pagoda) को दर्शाया गया है।

ancient-architecture

  • ध्यातव्य है कि यह संयुक्त डाक टिकट 25 जनवरी, 2018 को जारी किए गए थे और 18 दिसंबर, 2017 को इस संयुक्त मुद्दे के लिये भारत और वियतनाम के डाक प्रशासन के बीच समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए थे।

साँची का स्तूप (Sanchi Stupa)

  • यह भोपाल से 46 किमी पूर्वोत्तर में तथा बेसनगर और विदिशा से 10 किमी की दूरी पर मध्यप्रदेश के रायसेन ज़िले में स्थित है। अतः पहला कथन सही नहीं है।  
  • साँची का स्तूप, सम्राट अशोक ने तीसरी सदी ई.पू. में बनवाया था हालाँकि, यहाँ स्थित अन्य बौद्ध स्मारकों का निर्माण तीसरी सदी से बारहवीं सदी के मध्य हुआ था।
  • इस स्तूप के चारों ओर कई तोरण भी हैं, जो प्रेम, शांति, विश्वास और साहस का प्रतीक है।
  • इस स्तूप का केंद्रीय भाग अर्द्धगोलाकार और ईंट निर्मित संरचना है, जो कि बुद्ध के कुछ अवशेषों पर बना हुआ है।
  • ध्यातव्य है कि यह स्तूप यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में भी शामिल है।

फॉ मिन्ह पगोडा (Pho Minh Pagoda)

  • वियतमान में स्थित इस पेगोडा को मूल रूप से ली राजवंश (Ly Dynasty) के दौरान बनाया गया था और बाद में 1262 में ट्रैन राजवंश (Tran Dynasty) के दौरान इसे विस्तारित किया गया था। अतः दूसरा कथन सही है।  
  • यह उच्च श्रेणी के मंडारियों और ट्रैन रॉयल कोर्ट के अभिजात वर्ग के लिये पूजा और नेतृत्व करने हेतु एक प्रसिद्ध जगह थी।
  • कन्फ्यूशियनिज्म, बौद्ध धर्म और सहवास संबंधित स्पष्ट छापों को यहाँ देखा जा सकता है।
[2]

केंद्रीय दत्तक संसाधन प्राधिकरण (सीएआरए) के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. यह महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के अधीन कार्यरत एक सांविधिक निकाय है।
  2. यह ‘अंतर्देशीय दत्तक ग्रहण पर हेग कन्वेंशन, 1993’  के प्रावधानों के अनुरूप कार्य करता है, जिसे वर्ष 2004 में भारत सरकार द्वारा अनुसमर्थित किया गया था।
  3. यह भारतीय बच्चों को गोद लेने जैसे मामलों के संबंध में नोडल बॉडी के रूप में कार्य करता है।

उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2 और 3
C) केवल 1 और 3
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर (C)
व्याख्या:

  • हाल ही में केंद्रीय दत्तक संसाधन प्राधिकरण (सीएआरए) ने विवाह के बिना सहवास या रिश्तों में जुड़े लोगों को (live-in relationships) बच्चों को गोद देने से मनाही कर दी है।

CARA

प्रमुख बिंदु

  • यह संस्था किसी भी महिला को किसी भी लिंग के बच्चे को अपनाने की अनुमति देता है, जबकि एकल पुरुष केवल लड़कों को अपना सकते हैं।
  • यदि कोई आवेदक विवाहित होता है, तो पति/पत्नी दोनों को गोद लेने के लिये अपनी सहमति देनी चाहिए और कम से कम दो वर्षों तक स्थिर विवाह में होना चाहिए।

‘केंद्रीय दत्तक संसाधन प्राधिकरण’ (Central Adoption Resource Authority – CARA)

  • यह महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के अधीन कार्यरत एक सांविधिक निकाय है। अतः पहला कथन सही है।
  • यह भारतीय बच्चों को गोद लेने जैसे मामलों के संबंध में नोडल बॉडी के रूप में कार्य करता है। अतः तीसरा कथन सही है। 
  • साथ ही देश के भीतर तथा विभिन्न देशों के मध्य दत्तक ग्रहणों की निगरानी एवं उन्हें विनियमित करने का कार्य करता है।
  • यह ‘अंतर्देशीय दत्तक ग्रहण पर हेग कन्वेंशन-1993’, जिसे वर्ष 2003 में भारत सरकार द्वारा अनुसमर्थित किया गया था, के प्रावधानों के अनुरूप कार्य करता है। अतः दूसरा कथन सही नहीं है।
  • यह प्राथमिक रूप से संबंधित/मान्यता प्राप्त दत्तक एजेंसियों के माध्यम से अनाथ छोड़े हुए और आत्मसमर्पण किये बच्चों की सहायता करने का कार्य करता है।
[3]

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद एक स्वतंत्र निकाय है, जो संयुक्त राष्ट्र प्रणाली से अंतर्संबंधित नहीं है।
  2. यह परिषद 47 सदस्य राज्यों से बना है, जो सीधे और गुप्त मतपत्र के माध्यम से संयुक्त राष्ट्र की आम सभा के सदस्यों के बहुमत से चुने जाते हैं।
  3. इस परिषद की सदस्यता हेतु न्यायसंगत भौगोलिक वितरण को आधार बनाया गया है।

उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2 और 3
C) केवल 1 और 3
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर (B)
व्याख्या:

  • हाल ही में भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) की एक रिपोर्ट को भ्रामक, शरारतपूर्ण और पूर्वाग्रह से ग्रसित मानते हुए ख़ारिज कर दिया है, जो जम्मू- कश्मीर में मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन से संबंधित है।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) क्या है?

UNHRC

  • मानवाधिकार परिषद, संयुक्त राष्ट्र प्रणाली के भीतर एक अंतर सरकारी निकाय है, जो दुनिया भर में मानवाधिकारों के प्रचार और संरक्षण को मजबूत करने, मानवाधिकार उल्लंघन की स्थितियों को संबोधित करने तथा उन पर सिफारिश करने हेतु जिम्मेदार है। अतः पहला कथन सही नहीं है।
  • यह परिषद 47 सदस्य राज्यों से बना है, जो सीधे और गुप्त मतपत्र के माध्यम से संयुक्त राष्ट्र की आम सभा के सदस्यों के बहुमत से चुने जाते हैं। अतः दूसरा कथन सही है।  

सदस्यता

  • इसके सदस्य तीन साल की अवधि के लिये सेवा करते हैं और लगातार दो पदों की सेवा के बाद तत्काल पुन: चुनाव के योग्य नहीं होते हैं।
  • परिषद की सदस्यता न्यायसंगत भौगोलिक वितरण पर आधारित है, जिसमें सीटों को निम्नानुसार वितरित किया जाता है:
    ♦ अफ्रीकी राज्यों के लिये: 13 सीटें
    ♦ एशिया-प्रशांत राज्यों के लिये: 13 सीटें
    ♦ लैटिन अमेरिकी और कैरीबियाई राज्यों के लिये: 8 सीटें
    ♦ पश्चिमी यूरोपीय और अन्य राज्यों के लिये: 7 सीटें
    ♦ पूर्वी यूरोपीय राज्यों के लिये: 6 सीटें (अतः तीसरा कथन भी सही है।)
[4]

ओपेक के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. ओपेक नामक संगठन एक अस्थायी अंतर सरकारी संगठन है, जिसके संस्थापक पाँच देश थे हालाँकि, वर्तमान सदस्यों की संख्या 14 है।
  2. ओपेक का सबसे नवीनतम सदस्य इक्वेटोरियल गिनी है, जो वर्ष 2017 में संगठन में शामिल हुआ है।
  3. ओपेक का वर्तमान मुख्यालय जिनेवा, स्विट्ज़रलैंड में है।
  4. ओपेक का मुख्यालय पहले जिनेवा (स्विट्ज़रलैंड) में था, किंतु इसे 1 सितंबर, 1965 को ऑस्ट्रिया के वियना में स्थानांतरित कर दिया गया था।

उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A) केवल 2 और 4
B) केवल 2 और 3
C) केवल 1 और 3
D) 1, 2 और 4
Hide Answer –

उत्तर (A)
व्याख्या:

हाल ही में एशिया के सबसे बड़े कच्चे तेल खरीदारों में से दो भारत और चीन, अमेरिका के तेल आपूर्तिकर्त्ताओं से हाथ मिलाकर दुनिया के सबसे बड़े तेल बाज़ार ओपेक को चुनौती देने पर विचार कर रहे हैं।

 उद्देश्य

  • इस कदम का मुख्य उद्देश्य पेट्रोलियम निर्यात करने वाले देशों के संगठनों पर अपनी निर्भरता को कम करना है।
  • दरअसल इस कदम से दोनों देश कीमतों को नियंत्रण में रखने के लिये ओपेक उत्पादकों पर दबाव डालना चाहते हैं।
  • भारत और चीन जैसे बड़े खरीदारों के बीच संभावित सहयोग द्वारा मैक्सिको और टेक्सास के शेल क्षेत्रों में पंप किये गए कच्चे तेल के भंडारों से एशियाई देशों में आपूर्ति बढ़ाकर बाज़ार हिस्सेदारी में ओपेक देशों को चुनौती दी जा सकती है।

पेट्रोलियम निर्यात करने वाले देशों का संगठन (ओपेक)

OPEC

  • 10 से 14 सितंबर, 1960 को बगदाद सम्मेलन के दौरान ईरान, इराक, कुवैत, सऊदी अरब और वेनेज़ुएला देशों द्वारा ओपेक नामक संगठन बनाया गया, जो एक स्थायी अंतर सरकारी संगठन है। अतः पहला कथन सही नहीं है।

सदस्य देश 

  • पाँच संस्थापक सदस्यों के अलावा बाद में इन संगठन में शामिल होने वाले सदस्य इस प्रकार हैं – कतर (1961), इंडोनेशिया (1962), लीबिया (1962), संयुक्त अरब अमीरात (1967), अल्जीरिया (1969), नाइजीरिया (1971), इक्वाडोर (1973), गैबॉन (1975), अंगोला (2007) और इक्वेटोरियल गिनी (2017)। अतः दूसरा कथन सही है।  
  • इक्वाडोर को दिसंबर 1992 में और इंडोनेशिया को जनवरी 2009 में उनकी सदस्यता से निलंबित कर दिया गया था, लेकिन क्रमशः अक्टूबर 2007 और जनवरी 2016 में इन देशों को पुनः ओपेक की सदस्यता हासिल हो गई थी।
  • इसी प्रकार गैबॉन की जनवरी 1995 में इस संगठन से अलग हुआ हालाँकि, इसे जुलाई 2016 में, पुनः संगठन में शामिल किया गया।
  • अतः वर्तमान में, संगठन में कुल 14 सदस्य देश हैं।

मुख्यालय

  • अपनी स्थापना के पहले पाँच वर्षों तक ओपेक का मुख्यालय जिनेवा, स्विट्ज़रलैंड में था, किंतु इसे 1 सितंबर, 1965 को ऑस्ट्रिया के वियना में स्थानांतरित कर दिया गया था। अतः तीसरा कथन सही नहीं है, किंतु चौथा कथन सही है।

उद्देश्य

  • ओपेक का उद्देश्य सदस्य देशों के बीच पेट्रोलियम नीतियों को समन्वयित और एकीकृत करना है, ताकि पेट्रोलियम उत्पादकों के लिये उचित और स्थिर कीमतों को सुरक्षित किया जा सके।
  • उपभोक्ता राष्ट्रों के लिये पेट्रोलियम की एक कुशल, आर्थिक और नियमित आपूर्ति सुनिश्चित करना है।
[5]

हाल ही में आईटी क्षेत्र की किस प्रमुख कंपनी ने शेयर मार्केट में लिस्टिंग के अपने 25 साल पूरे कर लिए हैं?

A) टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज
B) इंफोसिस
C) विप्रो
D) टेक महिंद्रा
Hide Answer –

उत्तर (B)
व्याख्या:

  • हाल ही में इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (आईटी) क्षेत्र की प्रमुख कंपनी इंफोसिस ने शेयर मार्केट में लिस्टिंग के अपने 25 साल पूरे कर लिए हैं। अतः विकल्प (B) ही सही उत्तर है।
  • गौरतलब है कि इसके शेयर 14 जून, 1 993 को भारतीय स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध हुए थे।

इंफोसिस (Infosys)

  • अगली पीढ़ी के डिजिटल सेवाओं और परामर्श में इंफोसिस एक वैश्विक अग्रणी कंपनी हैं।
  • वर्ष 1981 में, सात इंजीनियरों ने मिलकर इन्फोसिस लिमिटेड को केवल यूएस $ 250 के निवेश के साथ शुरू किया था।

Infosys

  • कंपनी की स्थापना उन महान विचारों के निर्माण और कार्यान्वयन के सिद्धांत पर की गई थी, जो ग्राहकों के लिये प्रगति को प्रेरित करते हैं और उद्यम समाधानों के माध्यम से जीवन को बढ़ाते हैं।
  • यह आश्चर्य की बात नहीं है कि, वित्त वर्ष 2018 में हमारे राजस्व का 97.6 प्रतिशत इसके मौजूदा ग्राहकों से प्राप्त हुआ है।

 

आयुष्मान भारत- राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन को मिली 20 राज्यों की सहमति

Ayushman Bharat

चर्चा में क्यों?

14 जून, 2018 को 20 राज्यों तथा केंद्रशासित राज्यों ने आयुष्मान भारत–  राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन (AB-NHPM) को लागू करने के लिये सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किये जो कि केंद्र और राज्यों के बीच सहयोग का एक महत्त्वपूर्ण कदम है।

महत्त्वपूर्ण बिंदु 

  • केंद्र नीति निर्माण करेगा और राज्यों को इस योजना को अपनाना होगा। AB-NHPM देश के 50 करोड़ लोगों (10 करोड़ परिवार) को सुरक्षा प्रदान करेगा।
  • लाभार्थी बिना नकद और बिना किसी कागज़ात के भारत में कहीं भी इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।
  • इसके अंतर्गत सरकारी और निजी अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध रहेगी।
  • AB-NHPM लोगों को स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करेगा, जबकि स्वास्थ्य व वेलनेस केंद्र प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करेंगे।
  • आयुष्मान भारत योजना से स्वास्थ्य पर होने वाले अत्यधिक खर्च को कम किया जा सकेगा।

आयुष्मान भारत योजना

  • आयुष्मान भारत योजना भारत सरकार द्वारा प्रस्तावित योजना है, जिसे 1 अप्रैल, 2018 को पूरे भारत मे लागू किया गया था।
  • इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमज़ोर लोगों (बीपीएल धारक) को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है।
भारतीय मूल की दिव्या बनी अमेरिकी कंपनी GM की मुख्य वित्तीय अधिकारी

Divya

चर्चा में क्यों?

हाल ही में भारतीय मूल की अमेरिकी महिला दिव्या सूर्यदेवरा को अमेरिका की सबसे बड़ी  कंपनी जनरल मोटर्स (GM) का मुख्य वित्तीय अधिकारी नियुक्त किया गया है।

महत्त्वपूर्ण बिंदु

  • दिव्या सूर्यदेवरा किसी भी ऑटो कंपनी में मुख्य वित्तीय अधिकारी का पद ग्रहण करने वाली पहली महिला हैं।
  • जनरल मोटर्स विश्व की पहली कंपनी है जिसके CEO तथा CFO दोनों पदों पर महिलाएँ नियुक्त हैं।
  • दिव्या सूर्यदेवरा 1 सितंबर से अपना कार्यभार संभालेंगी और जनरल मोटर्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) मैरी बर्रा को रिपोर्ट करेंगी।

दिव्या सूर्यदेवरा

  • भारत में जन्मी दिव्या ने चेन्नई के मद्रास विश्वविद्यालय से वाणिज्य में स्नातक किया है।
  • 22 साल की उम्र में वह उच्च शिक्षा के लिये संयुक्त राज्य अमेरिका के हार्वर्ड चली गईं। यहाँ से MBA की डिग्री ली और निवेश बैंक UBS में अपनी पहली नौकरी शुरू की तथा 25 साल की उम्र में जनरल मोटर्स से जुड़ी थीं।
  • 2016 में दिव्या को ऑटोमोटिव क्षेत्र की ‘राइजिंग स्‍टार’ का खिताब मिला था।
तेज़ी से पिघल रही है अंटार्कटिका की बर्फ़

Antarctica

चर्चा में क्यों?

एक नए अध्ययन रिपोर्ट में विशेषज्ञों की एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा कहा गया है कि अंटार्कटिका की बर्फ़ बहुत तेज़ी से पिघल रही है।

महत्त्वपूर्ण बिंदु

  • वर्ष 1992 से अब तक लगभग 3 ट्रिलियन टन बर्फ पिघल चुकी है।
  • पिछले 25 सालों में दक्षिणी महाद्वीप की बर्फ़ इतनी तेज़ी से पिघली है कि इससे टेक्सास लगभग 13 फीट (4 मीटर) की गहराई तक ढक सकता है
  • वैज्ञानिकों की गणना के अनुसार, बर्फ पिघलने के कारण विश्व के सभी महासागरों के जल स्तर में 7.6 मिलीमीटर की वृद्धि हुई है।
  • 1992 से 2011 तक, अंटार्कटिका में वार्षिक रूप से 84 अरब टन बर्फ (76 बिलियन मीट्रिक टन) पिघल गई।
  • नेचर पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन रिपोर्ट के मुताबिक 2012 से 2017 तक बर्फ़ पिघलने की दर सालाना 241 बिलियन टन (219 अरब मीट्रिक टन) से अधिक हो गई।
  • रिपोर्ट के अनुसार पश्चिम अंटार्कटिका का वह हिस्सा, जहाँ सबसे अधिक बर्फ पिघली है, पतन की स्थिति में पहुँच चुका है।
  • यह अध्ययन नासा और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के साथ काम कर रहे वैज्ञानिकों की टीम द्वारा किया गया दूसरा मूल्यांकन है।
  • यह संभव है कि केवल अंटार्कटिका की बर्फ़ पिघलने के कारण सदी के अंत तक समुद्र का जल स्तर लगभग आधा फुट (16 सेंटीमीटर) तक बढ़ सकता है।
विश्व रक्तदान दिवस

World Blood Donor Day

चर्चा में क्यों?

14 जून को पूरी दुनिया में विश्व रक्तदान दिवस मनाया गया। इस दिवस का मुख्य उद्देश्य सुरक्षित रक्त एवं रक्त उत्पादों की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाना और रक्तदाताओं को सुरक्षित जीवन रक्षक रक्तदान करने के लिये प्रोत्साहित करते हुए उनका आभार व्यक्त करना है।

महत्त्वपूर्ण बिंदु

  • वर्ष 1997 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 100 फीसदी स्वैच्छिक रक्तदान नीति की नींव डाली थी।
  • वर्ष 1997 में संगठन ने यह लक्ष्य रखा था कि विश्व के प्रमुख 124 देश अपने यहाँ स्वैच्छिक रक्तदान को ही बढ़ावा दें।
  • उद्देश्य यह था कि रक्त की ज़रूरत पड़ने पर उसके लिये पैसे देने की ज़रूरत नहीं पड़नी चाहिये, परंतु इस नीति पर अब तक लगभग 49 देशों ने ही अमल किया है।
  • विश्व रक्तदान दिवस 2018 की थीम “Be there for someone else. Give blood. Share life” है।

14 जून ही क्यों?

  • महान वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टाईन का जन्‍म 14 जून, 1868 को हुआ था। उन्होंने मानव रक्‍त में उपस्थित एग्‍ल्‍युटिनि‍न की मौजूदगी के आधार पर रक्‍तकणों का A, B और O समूह में वर्गीकरण किया।
  • इस वर्गीकरण ने चिकित्‍सा विज्ञान में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया। उनकी इसी खोज से आज करोड़ों से ज्यादा लोग रोज़ाना रक्तदान करते हैं और लाखों लोगों की जिंदगियाँ बचाई जाती हैं।
  • इस महत्त्वपूर्ण खोज के लिये ही कार्ल लैंडस्‍टाईन को वर्ष 1930 में नोबल पुरस्कार दिया गया था।

स्रोत : इकोनॉमिक टाइम्स, इंडियन एक्सप्रेस, द हिंदू एवं डी.एन.ए