UPSC DAILY CURRENT 16-07-2018

[1]

डीएनए प्रौद्योगिकी (उपयोग और अनुप्रयोग) विनियमन विधेयक, 2018 के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. यह एक स्थायी डीएनए डेटा बैंक की स्थापना का प्रावधान करता है।
  2. यह डीएनए प्रोफाइलिंग बोर्ड को डीएनए प्रयोगशालाओं की मान्यता प्रदान करने हेतु एक नियामक प्राधिकरण स्थापित करने की परिकल्पना करता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर : (b)
व्याख्या

  • प्रस्तावित डीएनए डेटा बैंक का इस्तेमाल अपराधों की जाँच या गायब व्यक्तियों को खोजने के लिये किया जाएगा| इसमें लोगों के विवरण स्थायी रूप से संग्रहीत नहीं किये जाएंगे।
  • डीएनए विवरण तब तक डीएनए बैंक में रखे जाएंगे जब तक कि मामला न्यायिक आदेशों के तहत हल नहीं हो जाता है|
  • 11 सदस्यीय डीएनए प्रोफाइलिंग बोर्ड एक नियामक प्राधिकरण के रूप में कार्य करेगा और डीएनए प्रयोगशालाओं को मान्यता प्रदान करेगा। यह एक  पूर्णकालिक बोर्ड होगा और इसकी अध्यक्षता बायोटेक्नोलॉजी विभाग के सचिव द्वारा की जाएगी।
[2]

‘3D रंगीन एक्स-रे’ के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. यह कैंसर ट्यूमर की स्थिति और आकार का पता लगाने में मदद करेगा।
  2. यह पारंपरिक श्वेत-श्याम एक्स-रे पर आधारित है जिसमें CERN द्वारा विकसित पार्टिकल-ट्रैकिंग तकनीक शामिल है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर : (c)
व्याख्या

  • न्यूजीलैंड के वैज्ञानिकों द्वारा एक ऐसा उपकरण विकसित किया गया है जिसकी सहायता से मनुष्य का ‘3डी  रंगीन एक्सरे’ लिया जा सकता है| इस इमेजिंग तकनीक से चिकित्सकीय निदान के क्षेत्र में काफी मदद मिलने की उम्मीद है।
  • मेडिपिक्स (medipix) नामक यह नया उपकरण पारंपरिक श्वेत-श्याम एक्सरे तकनीक पर आधारित है, जिसमें शोधकर्त्ताओं ने कणों की निगरानी करने वाली एक विशेष तकनीक का इस्तेमाल किया। यह विशेष तकनीक CERN द्वारा लार्ज हारड्रोन कोलाइडर (Large Hardron Collider) के लिये विकसित की गई थी, जिसने 2012 में हिग्स बोसन कण की खोज की थी।
  • शोधकर्त्ताओं के अनुसार, रंगीन एक्सरे इमेजिंग तकनीक स्पष्ट और अधिक सटीक तस्वीर मुहैया कराएगी जिससे डॉक्टर मरीजों की बीमारी की सही पहचान कर सकेंगे।
  • उदाहरण के लिये  एक फ्रैक्चर के मामले में यह न केवल हड्डी को हुई क्षति को दिखाएगा (जैसा कि एक्स-रे दिखाता है), बल्कि आसपास के ऊतकों के आघात को भी प्रकट करेगा|
  • CERN के मुताबिक, यह न केवल हड्डी, माँसपेशियों और उपास्थि के बीच का अंतर दिखाएगा  बल्कि कैंसर ट्यूमर की स्थिति और आकार को भी दिखाएगा।
[3]

कभी-कभी अख़बारों की सुर्ख़ियों में रहने वाला “एस -400 ट्रायम्फ सिस्टम” क्या है?

A) एक इज़राइली रडार प्रणाली
B) भारत की स्वदेशी वायु रक्षा प्रणाली
C) एक रूसी वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली
D) दक्षिण कोरिया और जापान के बीच एक रक्षा सहयोग
Hide Answer –

उत्तर : (c)
व्याख्या

  • एस-400 ट्रायम्फ (NATO रिपोर्टिंग नेम : एसए-21 ग्रोलर) रूस के अल्माज़ सेंट्रल डिज़ाइन ब्यूरो द्वारा विकसित एक वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली है।
  • एस-400 ट्रायम्फ वायु रक्षा प्रणाली एक बहु-कार्यात्मक रडार, स्वतंत्र पहचान और लक्षित प्रणाली, एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइल सिस्टम, लॉन्चर्स  और कमांड तथा कंट्रोल सेंटर को एकीकृत करती है। यह रक्षा तंत्र को मज़बूत बनाने के लिये तीन प्रकार के मिसाइलों को फायर करने में सक्षम है।
  • यह प्रणाली 30 किमी. तक की ऊँचाई पर 400 किमी. की सीमा के भीतर विमान, मानव रहित हवाई वाहन (UAV) और बैलिस्टिक तथा क्रूज मिसाइलों सहित सभी प्रकार के हवाई लक्ष्यों को साधने में सक्षम है। यह प्रणाली एक साथ 36 लक्ष्यों को साध सकती है।
[4]

निम्नलिखित देशों पर विचार कीजिये:

  1. ऑस्ट्रेलिया
  2. भारत
  3. चीन
  4. जापान
  5. अमेरिका

उपर्युक्त में से कौन-से देश “चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता” (क्वाड) के भागीदार हैं?

A) 1, 2, 3 और 4
B) 2, 3, 4 और 5
C) 1, 3, 4 और 5
D) 1, 2, 4 और 5
Hide Answer –

उत्तर : (d)
व्याख्या

“क्वाड” या “चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता” भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान के बीच एक अनौपचारिक तंत्र है।
[5]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. काउंटरिंग अमेरिका एडवर्सरीज़ थ्रू सेंक्शन एक्ट (Countering America’s Adversaries Through Sanctions Act-CAATSA) के माध्यम से अमेरिका के प्रतिद्वंद्वियों का मुकाबला करने के लिये यह संयुक्त राज्य का संघीय कानून है जो पाकिस्तान, रूस और उत्तरी कोरिया पर प्रतिबंध लगाता है।
  2. देशों को CAATSA के तहत वर्गीकृत देशों के साथ रक्षा सौदों के लिये अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर : (b)
व्याख्या

  • CAATSA संयुक्त राज्य अमेरिका का एक संघीय कानून है जिसके तहत ईरान, उत्तर कोरिया और रूस पर प्रतिबंध लगाए गए हैं। अतः कथन 1 सही नहीं है|
  • भारत को इस अधिनियम के तहत रूस से उच्च मूल्य वाले सैन्य रक्षा उपकरणों, विशेष रूप से  अत्याधुनिक एस-400 ट्रायम्फ मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के लिये अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है।

 

 

पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्रालय ने ‘स्‍वच्‍छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018’ का शुभारंभ किया

सामान्य अध्ययन प्रश्नप्रत्र-3 : प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा तथा आपदा प्रबंधन
(खंड-14 : संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण और क्षरण, पर्यावरण प्रभाव का आकलन)
सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र-2 : शासन व्यवस्था, संविधान, शासन प्रणाली, सामाजिक न्याय तथा अंतर्राष्ट्रीय संबंध
(खंड-13 : स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधनों से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित विषय)

SSG

चर्चा में क्यों?

पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्रालय ने हाल ही में राजधानी दिल्ली में ‘स्‍वच्‍छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018 (SSG 2018)’ का शुभारंभ किया। इसके तहत सभी ज़िलों में 1 से 31 अगस्‍त, 2018 तक एक स्‍वतंत्र सर्वेक्षण एजेंसी द्वारा सर्वेक्षण किया जाएगा और इसके नतीजों की घोषणा मात्रात्‍मक एवं गुणात्मक स्‍वच्‍छता के पैमाने के आधार पर सभी ज़िलों और राज्‍यों की रैंकिंग के रूप में की जाएगी।

एसएसजी 2018 का उद्देश्य  

  • ‘एसएसजी 2018’ का उद्देश्‍य ‘एसबीएम-जी’ (स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण) से जुड़े महत्त्वपूर्ण मात्रात्‍मक एवं गुणात्‍मक पैमाने के प्रदर्शन के आधार पर राज्‍यों और ज़िलों की रैंकिंग करना है।
  • इस प्रक्रिया के तहत देशव्‍यापी संचार अभियान के ज़रिये ग्रामीण समुदायों को अपने आसपास के क्षेत्रों में स्‍वच्‍छता एवं साफ-सफाई में बेहतरी लाने के कार्य से जोड़ा जाएगा।

प्रमुख बिंदु 

  • स्‍वच्‍छ सर्वेक्षण ग्रामीण के हिस्‍से के रूप में देश भर के 698 ज़िलों के 6980 गाँवों को कवर किया जाएगा।
  • सर्वेक्षण के लिये इन गाँवों के कुल 34,000 सार्वजनिक स्‍थानों जैसे कि स्‍कूलों, आँगनबाड़ी केंद्रों, सार्वजनिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों, हाट/बाज़ार/धार्मिक स्‍थानों का मुआयना किया जाएगा।
  • सीधी बातचीत के साथ-साथ ऑनलाइन फीडबैक के ज़रिये स्‍वच्‍छ भारत मिशन (MBM) से जुड़े मुद्दों पर 50 लाख से भी अधिक नागरिकों के फीडबैक को इकट्ठा किया जाएगा।
  • इस प्रक्रिया के तहत 65 प्रतिशत भारांक (वेटेज) इस सर्वेक्षण के निष्‍कर्षों एवं नतीजों को दिया गया है, जबकि 35 प्रतिशत भारांक सेवा क्षेत्र से जुड़े उन पैमानों को दिया गया है, जिन्‍हें पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्रालय के आईएमआईएस से प्राप्‍त किया जाएगा।

विभिन्न अवयवों के भारांक 
स्‍वच्‍छ सर्वेक्षण ग्रामीण के विभिन्‍न अवयवों का भारांक निम्‍नलिखित रूप से होगा :

  1. सार्वजनिक स्‍थानों पर स्‍वच्‍छता का प्रत्‍यक्ष अवलोकन : 30 प्रतिशत
  2. स्‍वच्‍छता के पैमानों पर ना‍गरिकों से प्राप्‍त फीडबैक : 35 प्रतिशत
  3. एसबीएमजी-एमआईएस के अनुसार देश में स्‍वच्‍छता के क्षेत्र में सुधार संबंधी सेवा स्‍तरीय प्रगति : 33 प्रतिशत

भारत में एसबीएम (जी) की दिशा में प्रगति 

  • जब स्वच्छ भारत मिशन को अक्टूबर 2014 में लॉन्च किया गया था, तो अनुमानतः 550 मिलियन भारतीय खुले में शौच के लिये मजबूर थे जिससे देश का स्वच्छता संकेतक दुनिया में सबसे बुरी स्थिति में था।
  • अक्‍टूबर 2014 से लेकर अब तक स्‍वच्‍छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत ग्रामीण भारत में 7.7 करोड़ से भी अधिक शौचालयों का निर्माण किया गया है।
  • सभी राज्‍यों/केंद्रशासित प्रदेशों में वर्ष 2017-18 में किसी अन्‍य पक्ष (थर्डपार्टी) द्वारा कराए गए एक स्‍वतंत्र सर्वेक्षण से इनके उपयोग का आँकड़ा 93 प्रतिशत दर्ज किया गया है|
  • लगभग 4 लाख गाँवों, 400 से भी अधिक ज़िलों और 19 राज्‍यों तथा केंद्रशासित प्रदेशों ने खुद को खुले में शौच मुक्‍त घोषित किया है।
  • हालाँकि, सरकार का अपना आँकड़ा बताता है कि यह प्रगति देश भर में समान नहीं है क्योंकि बिहार, उत्तर प्रदेश और ओडिशा जैसे राज्यों में शौचालयों की पहुँच और उपलब्धता अभी भी एक प्रमुख चिंता है।
  • खुले में शौच से मुक्ति का अभियान एक बड़ी चुनौती है| इसका अशिक्षा और गरीबी से गहरा रिश्ता है| सार्थक शिक्षा और गरीबी दूर किये बिना स्वच्छ भारत का सपना साकार नहीं हो सकता|