UPSC DAILY CURRENT 26-06-2018

[1]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. बैंकॉक स्थित यूनेस्को के ‘एशिया-पैसेफिक रीज़नल ब्यूरो फॉर एजुकेशन’ ने विद्यालयों में खुशी को बढ़ावा देने के उद्देश्य से ‘हैप्पी स्कूल प्रोजेक्ट’ लॉन्च किया है।
  2. यूनेस्को, एमजीआईईपी की भागीदारी से ‘हैप्पी स्कूल’ के  ढाँचे को परिचालित करने की प्रक्रिया में है।
  3. इस योजना के अंतर्गत सामाजिक और भावनात्मक अधिगम (एसईएल) आधारित ‘लिब्रे’ (Libre) नामक पाठ्यक्रम विकसित किया गया है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2 और 3
C) केवल 1 और 2
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर (D)
व्याख्या:

  •  शिक्षा प्रणाली अत्यधिक प्रतिस्पर्द्धी, तनाव-युक्त और परीक्षोन्मुख हो गई है, परिणामस्वरूप बच्चे अवसाद और गंभीर मानसिक बीमारियों से ग्रस्त होते जा रहे हैं।
  • गौरतलब है कि यूनेस्को इस धारणा को बढ़ावा देता है कि विद्यालयों को सीखने के लिये अनुकूल माहौल प्रदान करना चाहिये, जहाँ बच्चे स्वयं को शारीरिक और मानसिक रूप से सुरक्षित महसूस करें।
  • इसी आधार पर बैंकॉक स्थित यूनेस्को के ‘एशिया-पैसेफिक रीज़नल ब्यूरो फॉर एजुकेशन’ ने शिक्षार्थी कल्याण और समग्र विकास के माध्यम से विद्यालयों में खुशी को बढ़ावा देने के उद्देश्य से ‘हैप्पी स्कूल प्रोजेक्ट’ (Happy Schools Project) लॉन्च किया है। अतः पहला कथन सही है। 
  • यूनेस्को, शांति और सतत् विकास के लिये महात्मा गांधी शिक्षा संस्थान (एमजीआईईपी) की भागीदारी से ‘हैप्पी स्कूल’ के  ढाँचे को परिचालित करने की प्रक्रिया में है। अतः दूसरा कथन सही है।

हैप्पी स्कूल प्रोजेक्ट

  • एमजीआईईपी एशिया-प्रशांत क्षेत्र में यूनेस्को का अपनी तरह का पहला संस्थान है, जिसे भारत सरकार द्वारा समर्थन प्राप्त है।
  • इस योजना के अंतर्गत सामाजिक और भावनात्मक अधिगम (एसईएल) पर आधारित ‘लिब्रे’ (Libre) नामक पाठ्यक्रम विकसित किया गया है। अतः तीसरा कथन भी सही है।  
  • यह पाठ्यक्रम चार महत्त्वपूर्ण दक्षताओं के विकास पर आधारित है, जिनमें महत्त्वपूर्ण पूछताछ (Critical Inquiry), सचेतन (Mindfulness), समानुभूति (Empathy) और करुणा (Compassion) शामिल हैं।
  • ध्यातव्य है कि इस वर्ष विद्यालय आधारित इस पाठ्यक्रम के भारत और मलेशिया से शुरू होने की उम्मीद है।
  • एसईएल विद्यालयों में खुशी के प्रसार का एक महत्त्वपूर्ण घटक साबित हो सकता है।

यूनेस्को बैंकॉक (UNESCO Bangkok)

  • वर्ष 1961 से यूनेस्को बैंकॉक ‘शिक्षा के लिये क्षेत्रीय ब्यूरो’ तथा ‘क्लस्टर कार्यालय’ के रूप में दोहरी भूमिका निभाता रहा है।
  • यह शिक्षा के लिये क्षेत्रीय ब्यूरो के रूप में, तकनीकी विशेषज्ञता और सहायता प्रदान करता है, इसके साथ ही ज्ञान सृजन, ज्ञान साझाकरण, निगरानी तथा मूल्यांकन का कार्य भी करता है।
  • क्लस्टर कार्यालय के रूप में, यह ‘मेकॉन्ग’ देशों में सभी यूनेस्को कार्यक्रमों (शिक्षा, विज्ञान, संस्कृति और संचार तथा सूचना) को लागू करने में मदद करता है।
[2]

निम्नलिखित में से किस राज्य ने हाल ही में विंड-सोलर हाइब्रिड पावर पॉलिसी की घोषणा की है?

A) गुजरात
B) महाराष्ट्र
C) कर्नाटक
D) राजस्थान
Hide Answer –

उत्तर (A)
व्याख्या:

  • 21 जून, 2018 को गुजरात सरकार ने ‘विंड-सोलर हाइब्रिड पावर पॉलिसी-2018’ की घोषणा की। अतः विकल्प (A) सही उत्तर है। 

उद्देश्य

  • इस नीति का उद्देश्य पवन ऊर्जा के साथ-साथ सौर ऊर्जा परियोजनाओं को एक ही स्थान पर स्थापित करना है।
  • इसके साथ ही, ट्रांसमिशन इंफ्रास्ट्रक्चर के कुशल उपयोग के लिये बड़े ग्रिड से जुड़े पवन-सौर फोटोवोल्टिक्स (पीवी) हाइब्रिड सिस्टम के प्रचार के लिये एक ढाँचा भी प्रदान करना है।

प्रमुख बिंदु

  • यह नीति पाँच वर्षों की निर्धारित अवधि के लिये होगी।
  • इस नीति के अंतर्गत अनुमोदित परियोजनाओं का लाभ 25 वर्षों की अवधि तक या परियोजना के जीवन काल तक नीति दस्तावेज़ में उल्लिखित शर्तों के अनुरूप लिया जा सकता है।
  • इस नीति के अंतर्गत कैप्टिव उपयोगकर्त्ता को हाइब्रिड परियोजनाओं में क्रॉस-सब्सिडी अधिभार और अतिरिक्त अधिभार पर पूर्ण छूट प्राप्त होगी।
  • साथ ही, वे व्हीलिंग शुल्कों और वितरण हानि पर 50 प्रतिशत छूट का लाभ भी ले सकेंगे।
  • वर्तमान में, गुजरात लगभग 7,100 मेगावॉट गैर-परंपरागत ऊर्जा का उत्पादन करता है, जिसमें 5,500 मेगावॉट पवन ऊर्जा और 1,600 मेगावॉट सौर ऊर्जा शामिल हैं।
[3]

निम्नलिखित में से कौन-सा/से सही सुमेलित है/हैं?

  1. कान्हा टाइगर रिज़र्व – ओडिशा
  2. सतकोसिया टाइगर रिज़र्व – मध्य प्रदेश

कूटः

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर (D)
व्याख्या:

  • अंतर-राज्य स्थानांतरण के अंतर्गत पहली बार एक बाघ को मध्य प्रदेश के कान्हा टाइगर रिज़र्व से ओडिशा के सतकोसिया टाइगर रिज़र्व में स्थानांतरित किया गया है।
  • ध्यातव्य है कि यह पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) और भारतीय वन्यजीव संस्थान (डब्ल्यूआईआई), देहरादून की एक महत्त्वाकांक्षी योजना का हिस्सा है।
  • इस योजना के अंतर्गत विभिन्न बाघ संरक्षित क्षेत्रों से छः बाघों का स्थानांतरण शामिल है।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान

  • यह मध्य प्रदेश में सतपुड़ा के मैकाल रेंज में स्थित है। अतः पहला कथन सही नहीं है।
  • कान्हा टाइगर रिज़र्व मंडला और बालाघाट ज़िलों में फैला हुआ है तथा इसके अंतर्गत दो प्रमुख अभयारण्य- हॉलन और बंजर शामिल हैं।
  • गौरतलब है कि कान्हा राष्ट्रीय उद्यान को वर्ष 1879 में आरक्षित वन घोषित किया गया था और वर्ष 1933 में  इसे एक वन्यजीव अभयारण्य के रूप में घोषित किया गया।
  • वर्ष 1955-75 की अवधि के दौरान चले संरक्षण प्रयासों के कारण इसे आगे चलकर एक राष्ट्रीय पार्क बना दिया।

सतकोसिया टाइगर रिज़र्व

  • यह राष्ट्रीय उद्यान ओडिशा राज्य में स्थित है। अतः दूसरा कथन भी सही नहीं है।
  • वर्ष 2007 में इस क्षेत्र को सतकोसिया टाइगर रिज़र्व घोषित किया गया था, जिसमें दो निकट वन्यजीव अभयारण्यों- सतकोसिया जॉर्ज अभयारण्य और बाईसिपल्ली अभयारण्य को शामिल किया गया है।
  • यह रिज़र्व 4 ज़िलों- अंगुल, कटक, नायागढ़ और बौध में फैला हुआ है।
[4]

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. यह भारत सरकार के ‘पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय’ के अधीन कार्यरत एक सांविधिक निकाय है।
  2. इस प्राधिकरण का गठन ‘वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1980’ के प्रावधानों के अंतर्गत किया गया है।
  3. यह प्राधिकरण ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ को वैधानिक अधिकार प्रदान करता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) केवल 1 और 2
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर (B)
व्याख्या:

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए)

Tiger

  • यह भारत सरकार के ‘पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय’ के अधीन कार्यरत एक सांविधिक निकाय है। अतः पहला कथन सही है।
  • इसे ‘वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972’ (Wildlife Protection Act, 1972) के प्रावधानों के अंतर्गत बाघों की सुरक्षा एवं बाघ अभयारण्यों के प्रशासन के उद्देश्य से गठित किया गया था। अतः दूसरा कथन सही नहीं है।

उपर्युक्त अधिनियम के प्रावधानों के अंतर्गत इसके प्रमुख उद्देश्य निम्नलिखित हैं-

  • ‘प्रोजेक्ट टाइगर’, जिसे भारत सरकार द्वारा बाघों की सुरक्षा के उद्देश्य से वर्ष 1973 में प्रारंभ किया गया था, को वैधानिक अधिकार प्रदान करना, ताकि इसके निर्देशों के अनुपालन को कानूनी बनाया जा सके। अतः तीसरा कथन सही है।
  • बाघ अभयारण्यों के प्रबंधन में केंद्र एवं राज्यों की एकल एवं समन्वित जवाबदेही को बढ़ाना।
  • बाघ अभयारण्यों के आस-पास के क्षेत्रों में निवास कर रहे स्थानीय लोगों की आजीविका से जुड़े हितों को स्पष्ट करना।
  • ध्यातव्य है कि ‘राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण’ प्रत्येक चार वर्षों के अंतराल पर बाघ जनगणना रिपोर्ट प्रकाशित करता है।
[5]

भारतीय वन्यजीव संस्थान के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. वर्ष 1982 में स्थापित भारतीय वन्यजीव संस्थान अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त संस्थान है।
  2. यह भारत के सिक्किम राज्य में स्थित है।
  3. यह प्रशिक्षण पाठ्यक्रम एवं अकादमिक कार्यक्रम के अलावा वन्यजीव अनुसंधान तथा प्रबंधन के क्षेत्र में सलाह प्रदान करता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A)  केवल 1
B)  केवल 2
C) केवल 1 और 3
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर (C)
व्याख्या:

 wild life

भारतीय वन्यजीव संस्थान

  • वर्ष 1982 में स्थापित भारतीय वन्यजीव संस्थान अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त संस्थान है। अतः पहला कथन सही है। 
  • यह देहरादून में स्थित है। अतः दूसरा कथन सही नहीं है। 
  • यह प्रशिक्षण पाठ्यक्रम एवं अकादमिक कार्यक्रम के अलावा वन्यजीव अनुसंधान तथा प्रबंधन के क्षेत्र में सलाह प्रदान करता है। अतः तीसरा कथन सही है। 

ध्येय

  • वन्यजीव विज्ञान के विकास को निर्धारित करना और क्षेत्र में उसके अनुप्रयोग को प्रोन्नत करना, जो हमारे आर्थिक, सामाजिक व सांस्कृतिक वातावरण के अनुरूप हो।
  • यह राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर वन्यजीवों की सुरक्षा संबंधी सर्वोत्कृष्ट प्रयासों हेतु प्रतिबद्ध है।

लक्ष्य एवं उद्देश्य

  • वन्यजीव संसाधनों से संबद्ध वैज्ञानिक ज्ञान को समृद्ध करना।
  • वन्यजीव संरक्षण एवं प्रबंधन के लिये कार्मिकों को विभिन्न स्तरों पर प्रशिक्षित करना।
  • तकनीकी विकास सहित भारतीय परिस्थितियों के अनुरूप प्रबंधन तथा अनुसंधान करना।
  • वन्यजीव अनुसंधान प्रबंधन तथा प्रशिक्षण पर अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से साझेदारी करना।
  • वन्यजीव तथा प्राकृतिक संसाधन संरक्षण पर अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व के क्षेत्रीय केंद्र के रूप में विकास करना।
  • वन्यजीव प्रबंधन संबंधी विशेष समस्याओं पर सूचना एवं सलाह देना।

 

फिंगर प्रिंट ब्यूरो के निदेशक मंडल का 19वाँ अखिल भारतीय सम्मेलन
(19th All India Conference of Directors of Finger Print Bureau)

finger-print-bureau

22-23 जून को हैदराबाद में फिंगर प्रिंट ब्यूरो (Finger Print Bureau) के निदेशक मंडल के दो दिवसीय अखिल भारतीय सम्मेलन का आयोजन किया गया। फिंगर प्रिंटिंग अपराधियों का पता लगाने का एक सफल उपकरण है। वैज्ञानिक उपकरणों का उपयोग न केवल दृढ़ विश्वास को आधार प्रदान करता है बल्कि नागरिकों के विश्वास में सुधार करने के साथ-साथ पुलिस की जाँच प्रक्रियाओं को भी पारदर्शी और उत्तरदायी बनाता है।

सेंट्रल फिंगर प्रिंट ब्यूरो (Central Finger Print Bureau)

  • फिंगर प्रिंट को व्यक्तिगत पहचान के माध्यम के रुप में प्रयोग किये जाने का विचार सर्वप्रथम 1858 में बंगाल प्रांत के ज़िला मजिस्ट्रेट सर विलियम हर्शिल दारा प्रतिपादित किया गया था।
  • विश्व का सर्वप्रथम फिंगर प्रिंट ब्यूरो राइटर्स बिल्डिंग कलकत्ता (अब कोलकाता) में वर्ष 1897 में स्थापित किया गया था।
  • 1976 में प्रशासनिक नियन्त्रण केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो को स्थानांतरित कर दिया गया और जुलाई 1986 में अंततः सेंट्रल फिंगर प्रिंट ब्यूरो को नवगठित राष्ट्रीय अपराध रिकाँर्ड ब्यूरो के प्रशासनिक नियंत्रणाधीन कर दिया गया।

प्रकार्यात्मक भूमिका एवं प्रशिक्षण संबंधी गतिविधियाँ

  • ब्यूरो की अपराध अनुसूची के अंर्तगत आने वाले भारतीय और विदेशी दोष सिद्ध अपराधियों और केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो के इंटरपोल प्रभाग और स्वापक नियंत्रण ब्यूरो नई दिल्ली दारा भेजे गए अन्तर्राष्ट्रीय अपराधियों के रिकार्ड का अनुरक्षण करना।
  • केंद्रीय सरकार के विभागों और भारत सरकार के उपक्रमों द्वारा (विचारार्थ) भेजे गए संदिग्ध फिंगर प्रिंट की जाँच करना।
  • फिंगर प्रिंट विज्ञान में पुलिस व भारत में राज्य सरकारों के गैर-पुलिस कार्मिकों और विदेशों से कार्मिकों को कोलम्बो प्लान की तकनीकी सहयोग भेजना, विशेष राष्ट्र मण्डल अफ्रीकी सहयोग प्लान और अन्य विकासशील देशों के साथ अन्तर्राष्ट्रीय तकनीकी एवं आर्थिक सहयोग के अंर्तगत प्रशिक्षण प्रदान करना।
  • राज्य फिंगर प्रिंट ब्यूरो के कार्य में समन्वय एवं फिंगर प्रिंट से संबंधित सभी मामलों में आवश्यक मार्गदर्शन करना।
  • अखिल भारतीय पुलिस ड्यूटी मीट (1958 से) में फिंगर प्रिंट विज्ञान में प्रत्येक वर्ष प्रतियोगिता का संचालन करना।
  • वार्षिक पत्रिका भारत में फिंगर प्रिंट का प्रकाशन करना जो देश में सभी फिंगर प्रिंट ब्यूरो के कार्य एवं गतिविधियों का गहन अध्ययन है।

प्रमुख भूमिका

  • सेंट्रल फिंगर प्रिंट ब्यूरो में संदिग्ध फिंगर प्रिंट सहित सभी संदिग्ध दस्तावेजों का और उनकी पहचान के संबंध में दिये गए मत या अन्य संबंधित बिन्दुओं का परीक्षण किया जाता है।
  • सभी सरकारी संस्थाओं एवं सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों के लिये यह सेवा निशुल्क है। प्राइवेट संस्थाओं या व्यक्तियों के मामले में दस्तावेज सरकारी संस्थाओं के माध्यम से भेजे जाए।
विश्व का सबसे छोटा कंप्यूटर मिशिगन माइक्रो मोट
(Michigan Micro Mote)

micro-mote

हाल ही में अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर विकसित किया है। सिर्फ 0.3 मिलीमीटर आकार वाले इस कंप्यूटर को मिशिगन माइक्रो मोट नाम दिया गया है।

  • वैसे ये सूक्ष्म कंप्यूटर जैसे ही डिस्चार्ज होते हैं इनकी प्रोग्रामिंग और डेटा समाप्त हो जाता है। इन कम्प्यूटरों में स्वयं को बूट करने की क्षमता नहीं है, चाहे ये बिजली से कनेक्ट हों या नहीं।
  • इससे पहले वाले 2x2x4 मिलीमीटर आकार वाले मिशिगन माइक्रो मोट सहित अन्य सिस्टम बिजली से कनेक्ट न होने बावजूद इस प्रकार डिस्चार्ज नहीं होते थे। यही कारण है कि इन्हें बनाने वाले वैज्ञानिक इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं हैं कि इन्हें कंप्यूटर कहा जाना चाहिये या नहीं? इनमें कंप्यूटर की तरह न्यूनतम फंक्शन वाली चीजें हैं या नहीं?
  • इसे बनाने वाली टीम ने इसका इस्तेमाल तापमान मापदंड की स्पष्टता तय करने के लिये किया। इसे एक सटीक तापमान सेंसर के रूप में डिज़ाइन यह नया सूक्ष्म कंप्यूटर इलेक्ट्रॉनिक स्पंदनों के साथ तापमान को समय अंतराल में परिवर्तित करता है।
  • परिणामस्वरूप बेहद सूक्ष्म स्तर पर मात्र 0.1 डि.से. गलती की संभावना के साथ यह तापमान बता सकता है। चूँकि तापमान से कैंसर के इलाज का पता लगाने में भी मदद मिल सकती है, इसलिये ये कैंसर के उपचार में सहायक हो सकते हैं।
  • रैम और फोटोवोल्टिक्स के अलावा नए कंप्यूटिंग उपकरणों में प्रोसेसर व वायरलेस ट्रांसमीटर और रिसीवर होते हैं। बहुत छोटे होने के कारण इनमें पारंपरिक रेडियो एंटीना लगाना संभव नहीं था। ऐसे में इनमें दृश्य प्रकाश (Visible Light) की सहायता डेटा प्राप्त करने और संचारित करने की व्यवस्था की गई है। एक बेस स्टेशन प्रोग्रामिंग के लिये प्रकाश प्रदान करता है, तब यह डेटा प्राप्त करता है।
  • मिशिगन माइक्रो मोट को बनाने में सबसे बड़ी चुनौती यह सामने आई कि इसे बेहद कम पावर से कैसे ऑपरेट किया जाए। बेस स्टेशन से मिलने वाले प्रकाश और इस सूक्ष्म कंप्यूटर के अपने ट्रांसमिशन LED से इसके बारीक सर्किट में करेंट आ सकता था। इसीलिये ऐसा सर्किट बनाया गया जो बेहद कम पॉवर पर तो काम करे ही, प्रकाश को भी सहन कर सके।
  • दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर मिशिगन माइक्रो मोट इतना छोटा है कि ऐसे 150 कंप्यूटर एक अंगूठे में फिट हो सकते हैं। इसे विकसित करने का काम लगभग एक दशक पहले शुरू हुआ था।
दुबई और आबुधाबी में भारतीयों को फ्री ट्रांज़िट वीज़ा

free-transit-visa

दुबई के शासक और यूएई के प्रधानमंत्री शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम की अध्यक्षता में संयुक्त अरब अमीरात की कैबिनेट ने दुबई और आबुधाबी होते हुए विश्व के अन्य हिस्सों की यात्रा करने वाले भारतीय यात्रियों को फ्री ट्रांज़िट वीज़ा देने का निर्णय लिया है।

  • इसका अर्थ यह है कि दुबई और आबुधाबी होते हुए दुनिया की यात्रा करने वाले भारतीय यात्रियों को इन दोनों शहरों में 48 घंटे तक रुकने के लिये एक भी पैसा नहीं खर्च करना होगा। ये नियम कब से लागू होंगे इस विषय में कोई जानकारी नहीं दी गई है।

प्रमुख बिंदु

  • 48 घंटे से अधिक की अवधि को केवल 50 दिरहम यानि 930 रुपए देकर 96 घंटे अथवा 4 दिन तक के लिये बढ़ाया जा सकता है।
  • इस प्रकार के ट्रांज़िट वीज़ा को सभी यूएई एयरपोर्ट पर मौजूद पासपोर्ट कंट्रोल हॉल से प्राप्त किया जा सकेगा।
  • इसके अतिरिक्त यूएई सरकार ने रोज़गार के लिये संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा करने वाले लोगों के लिये एक नए 6 माह के वीज़ा की भी घोषणा की है।
  • संयुक्त अरब अमीरात भारतीय नागरिकों को वीज़ा ऑन एराइवल की सुविधा भी प्रदान कर रहा है। भारत के साथ-साथ अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, यूके और जापान को भी यह सुविधा प्राप्त है।
एसबीआई के नए प्रबंध निदेशक : अर्जित बसु

earned-basu

अर्जित बसु को भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में प्रबंध निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है। इनकी नियुक्ति के साथ ही एसबीआई में 4 प्रबंध निदेशक हो जाएंगे। इनका कार्यकाल अक्तूबर 2020 तक का है। विदित को रजनीश कुमार को चेयरमैन बनाए जाने के बाद से यह पद खाली था।

अर्जित बसु

  • वर्ष 1983 में एसबीआई बैंक में पी.ओ. के रूप में इन्होने अपने करियर की शुरुआत की थी।
  • इसके अलावा अर्जित बसु एसबीआई के अलग-अलग सर्कलों में अहम पदों पर अपनी सेवाएँ दी है।
  • एसबीआई के प्रबंध निदेशक चुने जाने से पहले ये एसबीआई जीवन बीमा इकाई के प्रबंध निदेशक भी रह चुके हैं।

भारतीय स्टेट बैंक

  • भारतीय स्टेट बैंक (इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया पुराना नाम) भारत का सबसे बड़ा एवं पुराना बैंक है। इसे अनुसूचित बैंक भी कहा जाता हैं।
  • भारतीय स्टेट बैंक का प्रादुर्भाव वर्ष 1806 को बैंक ऑफ कलकत्ता की स्थापना के साथ हुआ। इसके तीन साल बाद बैंक को अपना चार्टर प्राप्त हुआ और इसे 2 जनवरी, 1809 को बैंक ऑफ बंगाल के रूप में पुनगर्ठित किया गया।
  • बैंक ऑफ बंगाल के बाद बैंक ऑफ बॉम्बे की स्थापना 15 अप्रैल, 1840 को तथा बैंक ऑफ मद्रास की स्थापना 1 जुलाई 1843 को की गई। इन तीनों बैंकों का 27 जनवरी, 1921 को इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया के रूप में समामेलन कर दिया गया।
  • 1 जुलाई, 1955 को इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया का अधिग्रहण कर इसे ‘भारतीय स्टेट बैंक’ का नाम दिया गया। तब से हर साल 1 जुलाई को इसके स्थापना दिवस के रूप में मनाया जाता है।
  • इसका मुख्यालय मुम्बई में है।

SBI