UPSC DAILY CURRENT 27-06-2018

[1]

हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने किस अमेरिकी देश को मलेरिया मुक्त घोषित किया है?

A) अर्जेंटीना
B) उरुग्वे
C) चिली
D) पराग्वे
Hide Answer –

उत्तर (D)
व्याख्या:

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पराग्वे को मलेरिया मुक्त देश घोषित किया है। अतः विकल्प (D)  सही उत्तर है।

मलेरिया मुक्त होने की शर्त

  • इस स्थिति के लिये किसी भी देश के अंदर लगातार कम से कम तीन वर्षों तक मलेरिया का कोई भी मामला सामने नहीं आना चाहिये, साथ ही उस देश के द्वारा मलेरिया की वापसी को रोकने की क्षमता भी विकसित की जानी चाहिये।
  • वर्ष 1973 में क्यूबा को मलेरिया मुक्त देश घोषित किये जाने के बाद पराग्वे अमेरिका का पहला देश है, जिसे यह दर्जा दिया गया है।
  • पराग्वे में इससे पूर्व वर्ष 1995 में प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम मलेरिया तथा वर्ष 2011 में पी विवाक्स मलेरिया का मामला पंजीकृत किया गया था।
  • गौरतलब है कि पराग्वे में वर्ष 2012 के बाद से मलेरिया का कोई मामला सामने नहीं आया है।

ई-2020 (E-2020)

  • वर्ष 2016 में डब्ल्यूएचओ द्वारा ई-2020 देशों की पहचान की गई, जिनके वर्ष 2020 तक मलेरिया मुक्त होने की संभावना है।
  • ई-2020 के अंतर्गत 21 देशों का निर्धारिण किया गया था।
[2]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. कामाख्या मंदिर असम के गुवाहाटी की नीलाचल पहाड़ी पर स्थित है और यह देवी की 51 शक्तिपीठों में से एक  है।
  2. कोच साम्राज्य के वंशजों द्वारा इस मंदिर परिसर में प्रवेश नहीं किया जाता है।
  3. गुवाहाटी में प्रतिवर्ष चार दिवसीय अंबुवाची मेला लगता है जो देवी सरस्वती की पूजा-अर्चना से संबंधित है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 1 और 2
C) केवल 2 और 3
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर (B)
व्याख्या:

  • विश्व योग दिवस के अवसर पर कामाख्या मंदिर के साधुओं ने भी योग किया।

कामाख्या मंदिर

Kamakhya-temple

  • यह मंदिर असम के गुवाहाटी के नीलाचल पहाड़ी पर स्थित है। अतः पहला कथन सही है।
  • भारत में कामाख्या मंदिर को अलौकिक शक्तियों और तंत्रसिद्धि का प्रमुख स्थान माना जाता है।
  • ध्यातव्य है कि यह मंदिर देवी की 51 शक्तिपीठों में से एक  है।
  • गुवाहटी में प्रतिवर्ष चार दिवसीय अंबुवाची मेला (Ambubachi Mela) लगता है जो देवी सती (देवी दुर्गा की एक अवतार ) की पूजा-अर्चना से संबंधित है। अतः तीसरा कथन सही नहीं है।
  • ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर के पुनर्निर्माण के बाद देवी ने कोच राजा नर नारायण और उसके भाई चिलेराई को शाप  दे दिया था, यही कारण है कि इनके वंशज मंदिर में प्रवेश नहीं करते। अतः दूसरा कथन भी सही है।
[3]

जेम्स बॉण्ड की प्रसिद्ध फिल्म ‘यू ओन्ली लिव ट्वाइस’ में दर्शाए गए किस ज्वालामुखी में हाल ही में पुनः उद्गार हुआ है?

A) जापान के क्यूशू द्वीप पर स्थित शिनमोइडेक ज्वालामुखी में
B) इटली के एटना ज्वालामुखी में
C) लिपारी द्वीप पर स्थित स्ट्राम्बोली ज्वालामुखी में
D) ग्वाटेमाला स्थित वोल्कन डे फुगो ज्वालामुखी में
Hide Answer –

उत्तर (A)
व्याख्या:

  • हाल ही में जापान के क्यूशू द्वीप पर स्थित शिनमोइडेक ज्वालामुखी (Shinmoedake Volcano) में पुनः उद्गार हुआ।
  • इसे वर्ष 2011 के बाद इस ज्वालामुखी में हुए उद्गार को सबसे बड़ा विस्फोट माना जा रहा है।
  • यह ज्वालामुखी क्वाटरनरी ज्वालामुखियों का एक बड़ा समूह है तथा जापान के 50 सक्रिय ज्वालामुखियों में से एक है।
  • गौरतलब है कि शिनमोइडेक ज्वालामुखी को 1967 में प्रदर्शित जेम्स बॉण्ड की प्रसिद्ध फिल्म ‘यू ओन्ली लिव ट्वाइस’ में दिखाया गया था।

सक्रिय ज्वालामुखी क्या है?

  • जिन ज्वालामुखियों से लावा, गैस तथा विखंडित पदार्थ निरंतर निकलते रहते हैं, उन्हें जाग्रत या सक्रिय ज्वालामुखी कहते हैं।
  • उदाहरण के लिये, इटली का माउंट एटना ज्वालामुखी तथा सिसली के उत्तर में लिपारी द्वीप पर स्थित स्ट्राम्बोली ज्वालामुखी।
[4]

मैडेन-जूलियन ऑसीलेशन (एमजेओ) के संदर्भ में निम्नलिखित्त कथनों पर विचार कीजिये:

  1. उष्णकटिबंधीय मौसम में समय-समय पर साप्ताहिक से मासिक उतार-चढ़ाव को मैडेन-जूलियन ऑसीलेशन कहते हैं।
  2. बंगाल की खाड़ी तथा पूर्वी भारत में मज़बूत चक्रवातों का निर्माण होगा और यह स्थिति मानसून को भी मज़बूती प्रदान करेगी।
  3. यह तटस्थ ईएनएसओ (ENSO) वर्षों के दौरान सर्वाधिक सक्रिय होता है जबकि मज़बूत एल-निनो और ला-नीना दोनों ही घटनाओं में अनुपस्थित रहता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 1 और 2
C) केवल 2 और 3
D) 1, 2 और 3
Hide Answer –

उत्तर (D)
व्याख्या:

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में भारतीय मौसम विभाग ने हिंद महासागर में मैडेन-जूलियन ऑसीलेशन (एमजेओ) के सकारात्मक चरण के कारण भारतीय मानसून की बेहतर निष्पति के संकेत दिये हैं।

मैडेन-जूलियन ऑसीलेशन (एमजेओ) क्या है?

  • उष्णकटिबंधीय मौसम में समय-समय पर साप्ताहिक से मासिक उतार-चढ़ाव को मैडेन-जूलियन ऑसीलेशन कहते हैं, अतः इसे उष्णकटिबंधीय अशांति के रूप में भी परिभाषित किया जाता है। अतः पहला कथन सही है।
  • एमजेओ को बादल के पूर्व की ओर बढ़ने वाली ‘पल्स’ और भूमध्यरेखा के आस-पास होने वाली वर्षा के रूप में वर्णित किया जा सकता है, यह प्रक्रिया आम तौर पर प्रत्येक 30 से 60 दिनों में घटित होती है।
  • यह तटस्थ ईएनएसओ (ENSO) वर्षों के दौरान सबसे सक्रिय होता है जबकि मज़बूत एल-निनो और ला-नीना, दोनों ही घटनाओं में अनुपस्थित रहता है। अतः तीसरा कथन भी सही है।
  • इसके साथ ही चक्रवात के लिये अनुकूल स्थितियों का निर्माण करता है और इन तूफानों से जुड़ी वर्षा में वृद्धि करता है।

प्रभाव

  • एक सकारात्मक एमजेओ के प्रभाव को जानना जटिल है, लेकिन इसे निम्नानुसार परिभाषित किया जा सकता है (ध्यान दें कि सर्दी/गर्मी उत्तरी गोलार्द्ध के संबंध में है और नकारात्मक एमजेओ की दशा में राज्यों पर इसके विपरीत प्रभाव देखे जाएंगे)।
  • शीतकाल में इससे ब्राज़ील, दक्षिण-पूर्व अफ्रीका और इंडोनेशिया के क्षेत्रों में वर्षा में वृद्धि होगी।
  • वहीं ग्रीष्मकाल में इससे मध्य अमेरिका, मेक्सिको और दक्षिण-पूर्व एशिया में वर्षा में वृद्धि होगी।
  • यदि मानसून के दौरान एमजेओ उपर्युक्त स्थानों में से किसी भी स्थान पर मौजूद है और सकारात्मक चरण में भी है तो यह स्पष्ट रूप से वर्षा को बढ़ाता है और बाढ़ की स्थिति उत्त्पन्न करता है।
  • सक्रिय (सकारात्मक) चरणों को मौसम उपग्रहों द्वारा ट्रैक किया जा सकता है और इससे 30 डिग्री उत्तर और दक्षिण दोनों अक्षांशों में आंधी की उपस्थिति का संकेत मिलता है।
  • इन चरणों के दौरान उत्तर और दक्षिण दोनों अक्षांशों में मौसम का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है।
  • सक्रिय चरण के बाद एक शुष्क चरण होता है, जिसमें तूफान संबंधी गतिविधियाँ  कम हो जाती हैं।
  • इसके साथ ही, दक्षिण-पूर्व एशिया में मानसून के दौरान मिडसमर ब्रेक के लिये यह शुष्क चरण ज़िम्मेदार होता है।
  • गौरतलब है कि इसके सकारात्मक चरण की वजह से बंगाल की खाड़ी तथा पूर्वी भारत में मज़बूत चक्रवातों का निर्माण होगा और यह स्थिति मानसून को भी मज़बूती प्रदान करेगी। अतः दूसरा कथन भी सही है।
[5]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. असम का डिब्रूगढ रेलवे स्टेशन वाई-फाई वाला देश का 400वाँ स्टेशन बन गया है।
  2. वर्ष 2016 में डिजिटल इंडिया मुहिम के अंतर्गत इस वाई-फाई सेवा की मुंबई रेलवे स्टेशन से शुरुआत हुई थी।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर (C)
व्याख्या:

  • असम के दिब्रुगढ़ रेलवे स्टेशन पर रेलटेल और गूगल के संयुक्त प्रयासों द्वारा मुफ्त वाई-फाई सेवा उपलब्ध कराई गई है, इसके साथ ही डिब्रूगढ रेलवे स्टेशन वाई-फाई वाला देश का 400वाँ स्टेशन बन गया है।
  • वर्ष 2016 में डिजिटल इंडिया मुहिम के अंतर्गत इस वाई-फाई सेवा की शुरुआत मुंबई स्टेशन से हुई थी।
  • गूगल के साथ रेलटेल की इस साझेदारी के अंतर्गत ए और ए 1 श्रेणियों के तहत 400 स्टेशनों को कवर किया गया है।
  • इसके साथ ही कंपनी अब बी और सी श्रेणी स्टेशनों में भी इसी तरह की सेवा शुरू करना चाहती है।
  • गूगल के अनुसार, 36 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जो पहली बार इंटरनेट का उपयोग रहे हैं, जबकि लगभग 50 प्रतिशत लोग इंटरनेट का कई बार उपयोग करते रहे हैं।
  • इस सुविधा के अंतर्गत शामिल उपयोगकर्त्ताओं में लगभग दो-तिहाई लोग 19 से 34 आयु वर्ग के हैं।
  • नेक्स्ट बिलियन यूज़र पहल के हिस्से के रूप में, गूगल अब रेलवे स्टेशन के सार्वजनिक वाई-फाई को भारतीय शहरों तथा दुनिया भर में विस्तारित करने के लिये रेलटेल परियोजना को सफल बनाने में जुटा हुआ है।
  • गौरतलब है कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के अंतर्गत पुणे में कंपनी ने अपने गूगल स्टेशन से सार्वजनिक वाई-फाई मंच हेतु एक पायलट प्रोजेक्ट भी लॉन्च किया है।

 

‘रानी रश्मोनी’
(Rani Rashmoni)

rani-rashmoni

हाल ही में भारतीय तट रक्षक ‘रानी रश्मोनी’ के पाँच फास्ट पेट्रोल वेसल (Fast Patrol Vessel-FPV) प्रोजेक्ट में से अंतिम वेसल को भारतीय तट रक्षक (Indian Coast Guard) में कमीशन किया गया। यह FPV स्वदेशी रूप से हिंदुस्तान शिपयार्ड द्वारा निर्मित है।

  • FPV उन्नत सेंसर और अत्याधुनिक उपकरणों से लैस है। इसके साथ-साथ यह निगरानी, हस्तक्षेप, खोज एवं बचाव, संचालन आदि जैसे बहुत-से कार्यों को करने में भी सक्षम है।
  • रोल्स रॉयस कामवे जेट्स (Rolls Royce Kamewa jets) के साथ-साथ 51 मीटर लंबे  इस जहाज़ को तीन एमटीयू 4,000 श्रृंखला के डीजल इंजनों द्वारा संचालित किया जाएगा।
  • इसके अतिरिक्त अन्य सुविधाओं में एकीकृत पुल सिस्टम, मशीनरी कंट्रोल सिस्टम, इन्फ्रा-रेड कम्युनिकेशन सिस्टम और अग्नि नियंत्रण प्रणाली के साथ-साथ नौसेना में एक सीआरएन 91 बंदूक को भी शामिल किया गया है।

इस प्रोजेक्ट के अन्य जहाज निम्नलिखित हैं:

  • अब तक आईसीजीएस रानी अब्बाका, आईसीजीएस रानी अवंती बाई, आईसीजीएस रानी दुर्गावती और आईसीजीएस रानी गैदिन्लिउ (Gaidinliu) को कमीशन किया गया है ये सभी जहाज़ देश के पूर्वी समुद्र तट पर विभिन्न स्थानों पर सक्रिय हैं।
तैयब एर्दोगन दूसरी बार तुर्की के राष्ट्रपति निर्वाचित

tayyab-erdogan

एक बार फिर से तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगन ने जीत हासिल कर ली है। एर्दोगन पिछले 15 वर्षों से सत्ता पर काबिज हैं।

तुर्की में संविधानिक सुधारों का प्रभाव

  • जनमत संग्रह के परिणामस्वरुप पहली बार तुर्की में राष्ट्रपति एवं संसदीय चुनाव कराए गए।
  • इन सुधारों के तहत देश में प्रधानमंत्री पद को समाप्त करते हुए सभी फैसले लेने का अधिकार राष्ट्रपति को दिया गया है। तुर्की के अंतिम प्रधानमंत्री बिनाली यिल्दरिम थे।
  • देश के मुख्य न्यायाधीश को चुनने का अधिकार राष्ट्रपति के पास होगा। इतना ही नहीं राष्ट्रपति को न्यायिक प्रक्रिया में अपना निर्णय देने का भी अधिकार होगा।
  • राष्ट्रपति का शासनकाल पाँच साल का होगा और वह अधिकतम दो कार्यकाल तक यह पद धारण कर सकेगा।
  • राष्ट्रपति अपने अधीन एक या उससे अधिक उप-राष्ट्रपति रख सकता है।
  • राष्ट्रपति को देश में आपातकाल लागू करने का पूरा अधिकार होगा।
  • यहाँ सबसे रोचक बात यह है कि तुर्की को यूरोपियन यूनियन में भी शामिल किया जा सकता है।
लिबोर

libor

अर्थव्यवस्था में विकास दर, महँगाई दर और एक्सचेंज दर की तरह ब्याज दरों की भी बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। ऐसी ही एक महत्त्वपूर्ण ब्याज दर है लिबोर, यह  अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में प्रचलित एक ब्याज दर है। लंदन का इंटर-बैंक एक थोक बाज़ार की तरह काम करता है। यहाँ बैंक जिस ब्याज दर पर एक-दूसरे से उधार लेते हैं, उसे लिबोर अर्थात् लंदन इंटर-बैंक ऑफर्ड रेट (london inter-bank offered rate) कहते हैं।

  • वस्तुतः लिबोर ब्याज दरों के संबंध में एक बेंचमार्क का काम करती है। यह दर इतनी अधिक महत्त्वपूर्ण है कि दुनिया भर में अलग-अलग करेंसी में करीब 350 लाख करोड़ डॉलर कीमत के फाइनेंशियल प्रोडक्ट जैसे- कॉरपोरेट लोन से लेकर क्रेडिट कार्ड, मॉर्टगेज से लेकर सेविंग अकाउंट और इंटरेस्ट रेट स्वैप्स की रेफरेंस दर लिबोर ही होती है।
  • इसमें से तकरीबन 200 लाख करोड़ डॉलर के फाइनेंशियल प्रोडक्ट डॉलर में होते हैं। यही कारण है कि लिबोर में मामूली उतार-चढ़ाव आने से मनी मार्केट में अरबों का नफा-नुकसान हो जाता है। चूँकि डॉलर विश्व की सबसे महत्त्वपूर्ण करेंसी है, इसलिये डॉलर लिबोर सर्वाधिक प्रचलित ब्याज दर है।

लिबोर को कैसे तय किया जाता है?

  • लंदन के इंटर-बैंक बाज़ार में प्रत्येक कारोबारी दिवस को (सार्वजनिक अवकाश को छोड़कर) सुबह 11 बजे से 16 बड़े बैंक आइसीई बैंचमार्क एडमिनिस्ट्रेशन के तत्त्वावधान में एक मंच पर आते हैं और यह सूचित करते हैं कि वे एक-दूसरे से किस ब्याज दर पर उधार लेने को तैयार हैं।
  • ये बैंक 5 करेंसी (डॉलर, यूरो, पौंड, येन व स्विस फ्रेंक) के लिये 7 अवधियों (ओवरनाइट, एक सप्ताह, एक माह, दो माह, तीन माह, छह माह व एक साल) में उधार संबंधी अलग-अलग ब्याज दरें तय करते हैं।
  • उदाहरण के तौर पर, यदि किसी बैंक को डॉलर उधार में लेने हैं तो वह यह स्पष्ट करेगा कि एक सप्ताह या एक माह या एक साल की अवधि के लिये निर्धारित डॉलर राशि उधार लेने के लिये वह कितनी ब्याज दर चुकाने को तैयार है। अन्य 4 करेंसी उधार लेने के संबंध में भी बैंक को यही तरीका अपनाना होता है।
  • बैंकों द्वारा अपनी-अपनी ब्याज दरें स्पष्ट की जाती हैं उसके बाद उन सभी दरों में से 4 उच्चतम तथा 4 न्यूनतम दरों को अलग कर बाकी बची दरों का एक औसत निकाला जाता है।
  • औसत निकालने के बाद प्रत्येक करेंसी के संबंध में 7 अवधियों के लिये सात अलग-अलग ब्याज दरें तय की जाती हैं। चूँकि यही प्रक्रिया सभी पाँचों करेंसी (डॉलर, यूरो, पौंड, येन व स्विस फ्रेंक) के लिये दोहराई जाती है, इसलिये कुल 35 अलग-अलग ब्याज दरें तय की जाती हैं। इन सभी को एक रूप में लिबोर कहा जाता हैं।
गौहर जान

gauhar-jaan

गूगल ने प्रसिद्ध भारतीय गायिका एवं नृत्यांगना गौहर खान (इन्हें गौहर जान के नाम से भी जाना जाता है) को उनके 145वें जन्मदिन पर डूडल बनाकर श्रद्धांजलि दी है। गौहर खान का जन्म 26 जून, 1873 को उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ ज़िले में हुआ था। द ग्रामोफोन कंपनी ऑफ इंडिया द्वारा प्रदत्त जानकारी के अनुसार, वह भारत में 78 आरपीएम (78 rpm) पर संगीत रिकॉर्ड करने वाली पहली महिला कलाकार थीं। उनके प्रसिद्ध गीतों में “मोरा नाहक लाए गवनवा” और “रस के भरे तोरे नैन ..” शामिल हैं।

  • गौहर जान का जन्म एक ईसाई परिवार में हुआ था। उनका नाम एंजेलिना योवर्ड था। गौहर के दादा ब्रिटिश थे, जबकि दादी हिंदू थीं। उनके पिता का नाम विलियम योवर्ड और माँ का नाम विक्टोरिया था। गौहर की माँ भी एक प्रशिक्षित गायिका और नृत्यांगना थीं।
  • दुर्भाग्य से उनके माता-पिता की शादी सफल नहीं रही और 1879 में उनका तलाक हो गया, उस समय एंजेलिना केवल 6 वर्ष की थीं।
  • इसके बाद विक्टोरिया ने कलकत्ता निवासी मलक जान से शादी कर इस्लाम धर्म कबूल कर लिया। यहीं से एंजेलिना गौहर जान बन गई।
  • गौहर जान ने नृत्य और गायन की प्रारंभिक शिक्षा अपनी माँ से ग्रहण की। उन्होंने रामपुर के उस्ताद वज़ीर खान और कलकत्ता के प्यारे साहिब से गायन की शिक्षा प्राप्त की।
  • 13 वर्ष की आयु में बलात्कार की शिकार हुई गौहर ध्रुपद, खयाल, ठुमरी और बंगाली कीर्तन में पारंगत थीं।
  • गौहर की कहानी को लेखक विक्रम संपथ ने किताब का रूप देकर ‘माई नेम इज गौहर जान’ के नाम से प्रकाशित कराया।
  • उन्होंने करीब 600 गीत रिकॉर्ड किये। गौहर के विषय में सबसे रोचक बात यह है कि वह दक्षिण एशिया की पहली गायिका थीं जिनके गाने ग्रामाफोन कंपनी ने रिकॉर्ड किये थे।
  • 1902 से 1920 के बीच ‘द ग्रामोफोन कंपनी ऑफ इंडिया’ ने गौहर के हिन्दुस्तानी, बांग्ला, गुजराती, मराठी, तमिल, अरबी, फारसी, पश्तो, अंग्रेज़ी और फ्रेंच गीतों के करीब छह सौ डिस्क निकाले थे।