UPSC DAILY CURRENT IN HINDI 19-10-2018

[1]

इंडिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. इस रैंकिंग के अंतर्गत इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT), मुंबई ने शीर्ष स्थान हासिल किया है।
  2. QS द्वारा जारी यह पाँचवीं देश-विशिष्ट रैंकिंग है। पहली रैंकिंग अमेरिका के लिये जारी की गई थी।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर : (a)
व्याख्या :

  • हाल ही में QS (Quacquarelli Symonds) ने अपनी पहली भारत-विशिष्ट रैंकिंग, इंडिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग की शुरुआत की है। यह भारतीय संस्थानों के लिये विशेष रूप से रैंकिंग का पहला संस्करण है। इस रैंकिंग के अंतर्गत इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT), मुंबई ने शीर्ष स्थान हासिल किया है, जबकि दूसरे स्थान पर भारतीय विज्ञान संस्थान (IISC), बंगलूरु है। इस रैंकिंग में शीर्ष 75 भारतीय विश्वविद्यालयों को शामिल किया गया है। अतः कथन 1 सही है।
  • QS यूनाइटेड किंगडम आधारित उच्च शिक्षा से संबंधित एक वैश्विक कंपनी है जो QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग जारी करती है। QS द्वारा जारी यह दूसरी देश-विशिष्ट रैंकिंग है। पहली रैंकिंग चीन के लिये जारी की गई थी। अतः कथन 2 सही नहीं है।
[2]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. इसे ‘पहाड़ों का पशु’ तथा ‘पहाड़ों का जहाज़’ के रूप में भी जाना जाता है।
  2. यह ठंड और नरम मौसम पसंद करता है तथा जंगल की पत्तियों, झाड़ियों एवं घास पर निर्भर रहता है।
  3. इसे IUCN द्वारा सुभेद्य पशु के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

उपर्युक्त कथन निम्नलिखित में से किस पशु से संबंधित हैं?

A) गैंडा
B) ऊँट
C) याक
D) मिथुन
Hide Answer –

उत्तर : (d)
व्याख्या :

  • अरुणाचल प्रदेश के राजकीय पशु मिथुन या गायल (Bos frontalis) को भारतीय गौर या बाइसन (Bison) का वंशज माना जाता है। यह निशि, अपतानी, गालो, मिश्मी, आदि, शेरडुकपेन और अरुणाचल प्रदेश के अन्य समुदायों के सामाजिक-आर्थिक एवं सांस्कृतिक जीवन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसे पवित्र माना जाता है क्योंकि सभी अनुष्ठानों में मिथुन की बलि देना अनिवार्य है। इसे ‘पहाड़ों का पशु’ तथा ‘पहाड़ों का जहाज़’ के रूप में भी जाना जाता है। इसे ठंड और नरम मौसम पसंद है तथा यह जंगल की पत्तियों, झाड़ियों एवं घास पर निर्भर रहता है। इस प्रजाति की प्रजनन क्षमता काफी उच्च होती है। इसे IUCN द्वारा सुभेद्य पशु के रूप में वर्गीकृत किया गया है।
[3]

राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

  1. हाल ही में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री द्वारा मुंबई में राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान की आधारशिला रखी गई।
  2. यह एक राष्ट्रीय स्तर का संस्थान होगा और इसकी स्थापना कोलकाता के राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान के विस्तार के रूप में की जाएगी।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर : (b)
व्याख्या :

  • हाल ही में केंद्रीय आयुष राज्य मंत्री द्वारा दिल्ली के नरेला में राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान की आधारशिला रखी गई। इस संस्थान में 100 बिस्तरों के अस्पताल और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं अनुसंधान के लिये उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने का प्रस्ताव है। इस परियोजना पर कुल 302 करोड़ रुपए की लागत आने का अनुमान है। अतः कथन 1 सही नहीं है।
  • यह एक राष्ट्रीय स्तर का संस्थान होगा और इसकी स्थापना कोलकाता के राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान के विस्तार के रूप में की जाएगी। होम्योपैथी में उच्च गुणवत्तापूर्ण अनुसंधान और उपचार का अंतराल दूर करने के लिये इस संस्थान में केवल स्नातकोत्तर और पीएचडी स्तर के शिक्षण की व्यवस्था होगी। यह संस्थान 7 विषयों में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम संचालित करेगा। प्रत्येक शैक्षिक वर्ष में हर विभाग में स्नातकोत्तर हेतु 7 विद्यार्थियों को दाखिला दिया जाएगा। पीएचडी पाठ्यक्रम में हर वर्ष 10 विद्यार्थी दाखिल होंगे। अतः कथन 2 सही है।
[4]

हाल ही में जापान का ‘फुकुओका कला एवं संस्कृति पुरस्कार-2018’ निम्नलिखित में से किसे  प्रदान किया गया?

A) उस्ताद जाकिर हुसैन
B) अमिताभ बच्चन
C) तीजन बाई
D) हेमा मालिनी
Hide Answer –

उत्तर : (c)
व्याख्या :

  • हाल ही में छत्तीसगढ़ की लोक गायिका तीजन बाई को उनकी पंडवानी कला के लिये जापान का ‘फुकुओका कला एवं संस्कृति पुरस्कार’ प्रदान किया गया है। इससे पहले यह पुरस्कार वर्ष 2016 में भारतीय संगीतकार ए.आर. रहमान को दिया गया था। ज्ञातव्य है कि इनसे पहले प्रसिद्ध सरोद वादक अमजद अली खान, प्रसिद्ध पर्यावरणविद् वंदना शिवा, प्रसिद्ध इतिहासकार रोमिला थापर, मशहूर भरतनाट्यम नृत्यांगना पद्मा सुब्रमण्यम, प्रसिद्ध लेखक आशीष नंदी, प्रसिद्ध सितार वादक पंडित रविशंकर तथा प्रसिद्ध इतिहासकार एवं समाजशास्त्री रामचन्द्र गुहा इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से सम्मानित किये जा चुके हैं।
  • पंडवानी (शाब्दिक अर्थ ‘पांडवों के गीत’) एक लोक रंगमंच का स्वरूप है। इस स्वरूप में एक हाथ में एकतारा या तानपुरा तथा दूसरे हाथ में कभी-कभी खड़ताल के साथ अभिनय और गायन शामिल होता है। यह ग्रामीण स्तर पर किया जाने वाला मनोरंजन है, जो छत्तीसगढ़ और पड़ोसी राज्यों के जनजातीय क्षेत्रों में लोकप्रिय है।
[5]

सौभाग्य योजना के अंतर्गत पुरस्कार योजना के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. यह पुरस्कार बिजली वितरण कंपनियों डिस्कॉम/राज्यों के विद्युत विभागों के स्तर पर 100 प्रतिशत घरों में विद्युतीकरण लक्ष्य को हासिल करने के लिये दिया जाएगा।
  2. 30 नवंबर, 2018 तक 100 प्रतिशत घरों के विद्युतीकरण के लक्ष्य को हासिल करने वाले प्रथम डिस्कॉम/विद्युत विभाग को 50 लाख रुपए का नकद पुरस्कार दिया जाएगा।

नीचे दिये गए कूटों का प्रयोग कर सही उत्तर का चयन कीजिये:

A) केवल 1
B) केवल 2
C) 1 और 2 दोनों
D) न तो 1 और न ही 2
Hide Answer –

उत्तर : (c)
व्याख्या :

  • हाल ही में बिजली वितरण कंपनियों/राज्यों के विद्युत विभाग तथा उनके कर्मचारियों को संचालन क्षेत्र में 100 प्रतिशत घरों में विद्युतीकरण के लक्ष्य को हासिल करने में मदद करने हेतु नई दिल्ली में सौभाग्य योजना के अंतर्गत पुरस्कार योजना की घोषणा की गई। यह पुरस्कार बिजली वितरण कंपनियों डिस्कॉम/राज्यों के विद्युत विभागों के स्तर पर 100 प्रतिशत घरों में विद्युतीकरण लक्ष्य को हासिल करने के लिये दिया जाएगा। अतः कथन 1 सही है।
  • 30 नवंबर, 2018 तक 100 प्रतिशत घरों के विद्युतीकरण के लक्ष्य को हासिल करने वाले प्रथम डिस्कॉम/विद्युत विभाग को 50 लाख रुपए का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। पुरस्कार राशि को डिस्कॉम/विद्युत विभाग के कर्मचारियों में बाँटने का तौर-तरीका राज्य के प्रधान सचिव (ऊर्जा/विद्युत) तय करेंगे। इसमें से 20 लाख रुपए डिस्कॉम/विद्युत विभाग के उस प्रभाग को दिये जाएंगे जिसने सर्वाधिक संख्या में घरों में विद्युतीकरण के लक्ष्य को प्राप्त किया हो। अतः कथन 2 सही है।

 

 

रोशनी केंद्र

DAY-NRLM

हाल ही में दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (DAY-NRLM), ग्रामीण विकास मंत्रालय (MoRD) और लेडी इरविन कॉलेज ने रोशनी, महिला समूह द्वारा मार्गदर्शित सामाजिक कार्यवाही केन्द्र, की स्थापना के लिये एक समझौता-ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

  • रोशनी को यूनिसेफ इंडिया द्वारा तकनीकी और वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है। यूनिसेफ इंडिया DAY-NRLM के लिये राष्ट्रीय स्तर पर तकनीकी सहायता इकाई के रूप में कार्य कर रहा है और विकास संचार एवं विस्तार विभाग, लेडी इरविन कॉलेज, नई दिल्ली से संबद्ध है।
  • रोशनी-केंद्र महिला समूहों और उनके संघों के माध्यम से खाद्यान्न, स्वास्थ्य, पोषण आदि क्षेत्र में अपनी भूमिका निभाएगा।
जीवन का सबसे पुराना साक्ष्य

oman-siberia

हाल ही में ओमान, साइबेरिया और भारत से प्राप्त चट्टानों से शोधकर्त्ताओं को जीवन का सबसे पुराना साक्ष्य मिला है।

  • शोध से पता चलता है कि समुद्री स्पंज 660 मिलियन वर्ष पहले नियो प्रोटेरोजोइक युग (660-635 मिलियन वर्ष पूर्व) के दौरान अस्तित्व में आया, जो कैम्ब्रिअन विस्फोट से कम से कम 100 मिलियन वर्ष पूर्व था।
  • प्राचीन चट्टानों और तेलों में, शोधकर्ताओं ने स्टेरॉयड यौगिक पाया जो केवल स्पंज द्वारा उत्पादित होता है तथा यह यौगिक जीवन के शुरुआती रूपों में से एक होता है।
  • कैम्ब्रिअन विस्फोट का तात्पर्य 541 मिलियन वर्ष पहले जीवों के संघों में विस्तार से है। यह विस्तार जानवरों कंकालीय अवशेषों से पता चलता है।
  • वैज्ञानिकों द्वारा पहचाना गया बायोमार्कर 26-मेथिल स्टिग्मास्टेन (26-mes) नामक एक स्टेरॉयड यौगिक है।
  • इसकी संरचना अनूठी है जिसे वर्तमान में आधुनिक स्पंजों की केवल कुछ प्रजातियों द्वारा संश्लेषित किया जाता है जिन्हें डेमोस्पॉन्ज़ (demosponges) कहा जाता है।
  • सितंबर 2018 में, शोधकर्ताओं की एक अंतर्राष्ट्रीय टीम ने दावा किया कि दुनिया के सबसे पुराने जीवाश्म, जिसे डीकिसोंनियाके नाम से जाना जाता है, जो पहली बार 571 मिलियन से 541 मिलियन वर्ष पहले अस्तित्व में आया था।
  • प्राप्त साक्ष्य को डीकिसोंनिया से 100 मिलियन वर्ष पहले का बताया जा रहा है।
  • यह खोज वैज्ञानिकों को भूगर्भ विज्ञान और जीवविज्ञान की उस पारस्परिक क्रिया को बेहतर ढंग से समझने में मदद कर सकती है जिसने पृथ्वी पर जटिल जीवन के विकास को प्रेरित किया।
हैंड-इन-हैंड 

hand-in-hand

भारत और चीन की सेना दिसंबर में चीन के चेंगदू क्षेत्र में वार्षिक संयुक्त सेना अभ्यास ‘हैंड-इन-हैंड’ को फिर से शुरू किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि डोकलाम विवाद के बाद उत्पन्न तनाव के कारण गत वर्ष इस अभ्यास को रद्द कर दिया गया था।

  • दोनों देशों के लगभग 175 सैन्यकर्मी इस अभ्यास में भाग लेंगे।
  • इस अभ्यास में भारत का प्रतिनिधित्व उत्तरी कमान के 11 सिख लाइट रेजिमेंट के सैनिकों द्वारा किया जाएगा।
  • अभ्यास का दायरा मानवीय सहायता और आपदा राहत संचालन के अलावा, अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद को समझना तथा उसका सामना करने के लिये संयुक्त रणनीति तैयार करना है।
  • यह अभ्यास तीन चरणों में आयोजित किया जाएगा।
संयुक्त राष्ट्र की मानसिक स्वास्थ्य रणनीति

employee

हाल ही में संयुक्त राष्ट्र ने कार्यस्थल पर मानसिक स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों और उनके प्रभाव से निपटने तथा अपने कर्मचारियों के कल्याण लिये एक रणनीति शुरू की है।

  • इस रणनीति के तहत UN के कर्मचारियों के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान रखा जाएगा।

संयुक्त राष्ट्र 

  • संयुक्त राष्ट्र की स्थापना 24 अक्तूबर, 1945 को संयुक्त राष्ट्र अधिकार-पत्र के माध्यम से की गई थी।
  • यह एक वैश्विक संगठन है, जिसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय कानून को सुविधाजनक बनाने हेतु सहयोग प्रदान करना, वैश्विक सुरक्षा, आर्थिक एवं सामाजिक विकास तथा मानवधिकारों की सुरक्षा के साथ-साथ विश्व शांति के लिये कार्य करना है।

 

मोबाइल वॉलेट्स के बीच इंटरऑपरेबिलिटी

सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र-3: प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा तथा आपदा प्रबंधन।
(खंड-1 : भारतीय अर्थव्यवस्था तथा योजना, संसाधनों को जुटाने, प्रगति, विकास तथा रोज़गार से संबंधित विषय।)

mobile-wallets

चर्चा में क्यों

हाल ही में भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने विभिन्न मोबाइल वॉलेट्स के बीच भुगतान की सुविधा के लिये दिशा-निर्देश जारी किये, जिसका उद्देश्य डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देना है।

महत्त्वपूर्ण बिंदु 

  • सरकार ने लोगों को डिज़िटल लेन-देन की तरफ आकर्षित करने के लिये विभिन्न कदम उठाए हैं। मोबाइल वॉलेट की बढ़ती उपयोगिता सरकार के एजेंडे को आगे बढ़ाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।
  • अब तक किसी भी वॉलेट का संचालन एक सीमित दायरे के भीतर किया जाता रहा है यानी दो अलग-अलग वॉलेट्स एक दूसरे से नहीं जुड़ सकते हैं। उदाहरण के लिये, पे-टीएम और मोबिक्विक उपयोगकर्त्ता आपस में लेन-देन नहीं कर सकते हैं।
  • 2017 में पेश किये गए रोड-मैप के अनुसार, KYC युक्त सभी प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट (PPI) की इंटरऑपरेबिलिटी तीन चरणों में संपन्न होगी। जो इस प्रकार हैं-
    ♦ एकीकृत भुगतान प्रणाली (UPI) के द्वारा वॉलेट के रूप में जारी किये गए प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट (PPI) की इंटरऑपरेबिलिटी।
    ♦ UPI के द्वारा वॉलेट और बैंक खातों की इंटरऑपरेबिलिटी।
    ♦ कार्ड नेटवर्क के द्वारा कार्ड के रूप में जारी किये गए PPI की इंटरऑपरेबिलिटी।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने इंटरऑपरेबिलिटी के बेहतर कार्यान्वयन हेतु सभी चरणों को सक्षम बनाने के लिये समेकित दिशा-निर्देश जारी किये थे।

इंटरऑपरेबिलिटी

  • इंटरऑपरेबिलिटी एक तकनीकी अनुकूलता है जो एक भुगतान प्रणाली को किसी दूसरी भुगतान प्रणाली से जुड़ने में सक्षम बनाता है।

निहितार्थ

  • अब इंटरऑपरेबिलिटी प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट (PPI) जैसे कि पे-टीएम, फ्रीचार्ज, मोबिक्विक, फोन-पे और पेज़ैप आदि लोकप्रिय भुगतान वॉलेट के उपयोगकर्त्ताओं को एक वॉलेट से दूसरे में पैसे स्थानांतरित करने में सक्षम बना देगा।
  • इसके अलावा, वॉलेट एकीकृत भुगतान प्रणाली (UPI) के द्वारा इंटरऑपरेबिलिटी को कार्यान्वित कर सकते हैं।
  • आरबीआई ने प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट (PPI) को मास्टरकार्ड, वीज़ा या रुपे जैसे अधिकृत कार्ड नेटवर्क का उपयोग करते हुए कार्ड जारी करने की भी अनुमति दी है।
  • इंटरऑपरेबिलिटी का सबसे बड़ा लाभ वॉलेट उपयोगकर्त्ताओं को होगा क्योंकि अब किसी एक वॉलेट का उपयोग करते हुए दूसरे वॉलेट उपयोगकर्त्ता के साथ सफलतापूर्वक लेन-देन किया जा सकेगा।
  • ई-वॉलेट की बढ़ती हिस्सेदारी को देखते हुए दिशा-निर्देश में उपयोगकर्त्ताओं की सुरक्षा और भुगतान में सटीकता भी सुनिश्चित की जाएगी।
एकीकृत भुगतान प्रणाली (UPI) क्या है?

  • यह एक ऐसी प्रणाली है जो एक मोबाल एप्लीकेशन के माध्यम से कई बैंक खातों का संचालन, विभिन्न बैंकों की विशेषताओं का समायोजन, निधियों का निर्बाध आवागमन और एक ही स्थान पर व्यापरियों को भुगतान की सुविधा उपलब्ध करा सकती है।
  • यह “पीयर टू पीयर” अनुरोध को भी पूरा करती है जिसे आवश्यकता और सुविधा के अनुसार निर्धारित कर भुगतान किया जा सकता है।
  • उल्लेखनीय है कि UPI का पहला संस्करण अप्रैल 2016 में लॉन्च किया गया था।